" /> बाढ़ में प्रशासन अधिक सतर्क रहकर करे राहत कार्य!, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे स्वयं जिलाधिकारी व नियंत्रण कक्ष के संपर्क में

बाढ़ में प्रशासन अधिक सतर्क रहकर करे राहत कार्य!, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे स्वयं जिलाधिकारी व नियंत्रण कक्ष के संपर्क में

मूसलाधार बारिश और तेज हवाओं के कारण मुंबई, मुंबई क्षेत्र और कोकण के जिलों, विशेष रूप से कोल्हापुर में बाढ़ के कारण उत्पन्न हुई स्थिति के संदर्भ में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे लगातार समीक्षा कर रहे हैं। साथ ही संबंधित जिलाधिकारी व नियंत्रण कक्ष में स्वयं बातचीत कर रहे हैं। कोरोना के साथ मुकाबला जारी रखते हुए भारी बारिश के कारण उत्पन्न परिस्थिति का पूरी सावधानी बरतते हुए राहत कार्य करने का निर्देश मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने दिए हैं। उन्होंने बुधवार की रात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मुंबई की स्थिति के बारे में भी जानकारी दी।
मुख्यमंत्री ने बुधवार की रात व कल गुरुवार की सुबह राहत और पुनर्वसन सचिव किशोर राजे निंबालकर से जानकारी मांगी और कल सुबह कोकण विभागीय आयुक्त लोकेश चंद्र, मुंबई के मनपा आयुक्त इकबाल सिंह चहल से बात की व आवश्यक सुझाव दिए। भारतीय मौसम विभाग के उप महानिदेशक, कृष्णानंद होसालिकर से बातचीत की।
रेलवे यात्रियों की सहायता करनेवाले जवानों की प्रशंसा
बुधवार ५ अगस्त से कल गुरुवार की सुबह ८.३० बजे तक सांताक्रूज में १६२.३ मिमी और कोलाबा में ३३१.०८ मिमी बारिश हुई। कोलाबा में कल शाम हवा की गति १०६ किमी प्रति घंटा थी। अन्य जगहों पर गति ७० से ८० किमी प्रति घंटा थी। भारी बारिश के कारण सड़क पर गिरे पेड़ों, बाधित यातायात और राहत कार्य के बारे में मुख्यमंत्री ने जानकारी ली। कुर्ला में एक व्यक्ति के शरीर पर पेड़ की डाल गिर जाने से वह घायल हो गया। जगह-जगह गिरे पेड़ों को युद्धस्तर पर हटाने का निर्देश मनपा प्रशासन को मुख्यमंत्री ने दिया। कल मस्जिद बंदर में दो उपनगरीय ट्रेनों में फंसे २९० यात्रियों को सफलतापूर्वक निकालने के लिए रेलवे पुलिस और एनडीआरएफ कर्मियों की मुख्यमंत्री ने प्रशंसा की। मस्जिद बंदर में मोटर पंप का शॉक लगने के कारण एक रेलवे कर्मचारी की मौत हो गई।
पानी की निकासी व गिरे पेड़ हटाने को दो वरीयता
जेजे अस्पताल की तल मंजिल पर पानी भरा था, लेकिन सरकारी मशीनरी ने तुरंत पानी की निकासी करके मरीजों और उनके रिश्तेदारों को कोई असुविधा नहीं होने दी। इसी प्रकार मुंबई के हिंदमाता, शेख मिस्त्री दरगाह रोड, बीपीटी कॉलोनी स्कायवॉक, गोल देऊल, महर्षी कर्वे रोड, पुलिस कॉलोनी, भायखला, खेतवाडी आदि स्थानों पर जमा पानी को मनपा प्रशासन ने तत्काल निकाल दिया। इस संबंध में मुख्यमंत्री ने संतोष व्यक्त किया। शहर में १५ स्थानों पर घर की दीवार गिरने की शिकायत मिली है। ३६१ स्थानों पर पेड़ व डालियां गिरी थीं, जिसे हटाकर रास्तों को साफ करने का काम खबर लिखे जाने तक जारी था। इन कामों को जल्द-से-जल्द पूरा करने का निर्देश मुख्यमंत्री ने दिया। पेडर रोड से केम्स कॉर्नर मार्ग पर संरक्षण दीवार गिरने की घटना घटी है। इसकी जानकारी मुख्यमंत्री ने ली।
कोल्हापुर, रायगड, रत्नागिरी के लिए मुख्यमंत्री ने दिए निर्देश
कोल्हापुर, रायगड, रत्नागिरी जिले की परिस्थिति के बारे में पुणे विभागीय आयुक्त व कोकण विभागीय आयुक्त से मुख्यमंत्री ने जानकारी प्राप्त की और जिन भागों में बाढ़ की परिस्थिति है, उन भागों के नागरिकों को समय पर स्थानांतरण करने के साथ-साथ उन्हें किसी भी प्रकार की असुविधा न हो, इसका निरीक्षण करने का निर्देश मुख्यमंत्री ने संबंधित अधिकारियों को दिए। एनडीआरएफ के राज्य में १६ दल तैनात हैं। इसमें ४ दल कोल्हापुर में हैं। कोल्हापुर की पंचगंगा, रत्नागिरी की कोदवली, रायगड की कुंडलिका इन नदियों का पानी खतरे के निशान से ऊपर बह रहा है, ऐसी जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री ने प्रशासन को अधिक सतर्क रहने के निर्देश दिए।