" /> दाने-दाने को तरसते अफगानी! खाने के लिए बेच रहे हैं टीवी, फ्रिज और सोफा

दाने-दाने को तरसते अफगानी! खाने के लिए बेच रहे हैं टीवी, फ्रिज और सोफा

अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा होने के बाद वहां का जीवन काफी उथल-पुथल भरा है। अफगानी जनता तालिबान के राज में दाने-दाने को तरसने को मजबूर है। अफगानिस्तान की तुलना आज दुनिया के सबसे गरीब देशों में होने लगी है। अफगानिस्तान में बड़ी उथल-पुथल, आर्थिक संकट के साथ अब लोग बेरोजगारी और गरीबी की तरफ बढ़ रहे हैं। देश के आम लोग दो वक्त का खाना खाने के लिए अपने घर का कीमती सामान बेचने को मजबूर हैं। अफगानिस्तान की सड़के साप्ताहिक बाजारों में बदल गई हैं, जहां लोग अपने घरों का सामना बेचने के लिए इकट्ठा होते रहते हैं।

अफगान के लोग जो पहले सरकारी नौकरियों का आनंद ले रहे थे या निजी क्षेत्र में काम कर रहे थे, उन्हें रातोंरात बेरोजगार कर दिया गया है। टोलो न्यूज की एक रिपोर्ट के अनुसार, अफगानों ने अब काबुल की सड़कों को साप्ताहिक बाजारों में बदल दिया है जहां वे अपने घरेलू सामान को सस्ते दामों पर बेच रहे हैं ताकि वे अपने परिवार को भोजन मुहैया करा सकें।

काबुल के एक दुकानदार लाल गुल ने टोलो न्यूज को बताया, “मैंने अपना सामान उनके आधे से भी कम कीमत पर बेचा। मैंने 25,000 का एक रेफ्रिजरेटर खरीदा था और उसे 5,000 में बेच दिया। मैं क्या कर सकता हूं? मेरे बच्चों को रात में खाना चाहिए।”

कुछ लोगों ने तो काबुल के एक पार्क चमन-ए-होजोरी की ओर जाने वाली सड़कों पर इन बाजारों में 1 लाख का सामान 20 हजार से से भी कम में बेचा है। सड़कों के नजारे हैरान करने वाले हैं जहां अफगान के लोग रेफ्रिजरेटर, टेलीविजन सेट, सोफा, अलमारी और हर दूसरे घरेलू फर्नीचर, उपकरण को बेचने के लिए लाइन में लगते दिखाई दे रहे हैं।

काबुल में एक पूर्व पुलिस अधिकारी मोहम्मद आगा पिछले 10 दिनों से उसी बाजार में काम कर रहे हैं। उन्होंने टोलो न्यूज को बताया, “उन्होंने मुझे मेरा वेतन नहीं दिया। अब, मेरे पास नौकरी नहीं है। मैं क्या करूं?”

काबुल पर कब्जा करने के एक महीने बाद, तालिबान अब कठिन समस्याओं का सामना कर रहे हैं। उनके पास अब अफगानिस्तान के लोगों को रोजगार और देने और एक सक्षम प्रशासन कायम करने की चुनौती है।