" /> संकटग्रस्तों का सहारा बनी आघाड़ी सरकार!, १५ दिनों में बांटे १६ लाख क्विंटल से अधिक राशन

संकटग्रस्तों का सहारा बनी आघाड़ी सरकार!, १५ दिनों में बांटे १६ लाख क्विंटल से अधिक राशन

कोरोना संकट में लगे लॉकडाउन के कारण छाई बेकारी से कोई भूखा न रह जाए इस मकसद से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्ववाली राज्य सरकार जनता का पूरा ख्याल रख रही है। सरकार द्वारा राज्य के ५२ हजार, ४३१ सस्ते अनाज की दुकानों से राशन का वितरण सुचारु रूप से जारी है। १ जुलाई से १५ जुलाई तक राज्य के ८४ लाख, ३६ हजार, ५९६ राशन कार्डधारकों को १६ लाख, ३२ हजार, ४२० क्विंटल राशन का वितरण किया गया। यह जानकारी खाद्य, नागरी आपूर्ति एवं ग्राहक संरक्षण मंत्री छगन भुजबल ने दी है।
राज्य में राष्ट्रीय अन्न सुरक्षा योजना के अंतर्गत अंत्योदय और प्राधान्य परिवार लाभार्थी ऐसे दोनों राशनकार्ड के पात्र लाभार्थियों की संख्या तकरीबन ७ करोड़ है। इन लाभार्थियों को ५२ हजार, ४३१ राशन दुकानों के द्वारा सार्वजनिक वितरण व्यवस्था का लाभ दिया जाता है। राज्य में इस योजना के तहत तकरीबन ९ लाख, २१ हजार, ८०६ क्विंटल गेहूं, ७ लाख, ८ हजार, ५२८ क्विंटल चावल और ९ हजार, ४८५ क्विंटल शक्कर का वितरण किया गया है। साथ ही स्थलांतरित लेकिन लॉकडाउन की वजह से राज्य में अटके हुए तकरीबन १ लाख, ८७ हजार, २०२ राशन कार्डधारकों ने भी, वे जहां पर रह रहे है, वहीं पर सरकार के पोर्टबिलिटी यंत्रणा के अंतर्गत ऑनलाइन पद्धति से राशन ले रहे हैं, ऐसा भुजबल ने बताया। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के अंतर्गत प्रति लाभार्थी प्रति महीना ५ किलो (गेहुं + चावल) मुफ्त देने की योजना है। अब तक कुल ९ हजार, ६५६ राशन कार्डधारकों को मुफ्त में (गेहुं + चावल) का वितरण किया गया है। इन राशन कार्डधारकों को ४१ हजार, ७०४ जनसंख्या को २ हजार, ९० क्विंटल गेहुं और चावल का वितरण किया गया है। राज्य सरकार ने कोविड-१९ के संकट पर उपाय योजना के लिए ३ करोड़, ८ लाख, ४४ हजार, ०७६ एपीएल केसरी राशनकार्ड के लाभार्थियों को प्रति व्यक्ति ५ किलो राशन रियायती दर से (गेहुं ८ रुपए प्रति किलो व चावल १२ रुपए प्रति किलो) देने का निर्णय लिया है। इसके तहत अब तक १३ लाख, ४ हजार, ४६ क्विंटल राशन वितरण किया गया है। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना में प्रति राशनकार्ड १ किलो मुफ्त दाल (तूअर तथा चना दाल) देने का प्रावधान है। अब तक इस योजना के तहत तकरीबन ३ लाख, ७१ हजार, १५९ क्विंटल दाल का वितरण किया गया है।