" /> उपमुख्यमंत्री ने लिखा पालक मंत्रियों को पत्र : दिया राशन वितरण पर विशेष ध्यान देने का निर्देश

उपमुख्यमंत्री ने लिखा पालक मंत्रियों को पत्र : दिया राशन वितरण पर विशेष ध्यान देने का निर्देश

बिना कारण सरकार की होने वाली बदनामी को टाल
कोरोना संकट के दौरान गरीब जनता को राशन की दुकानों पर दिए जानेवाले अनाज वितरण का प्रमाण बढ़ा है। इस वितरण में किसी भी प्रकार की अनियमितता न हो, अनाज का वितरण सुलभ और बिना शिकायत के हो, शिकायत मिलने पर तत्काल निवारण हो, ताकि सरकार की बिना वजह होनेवाले बदनामी को टाला जाए। इसके लिए सभी जिला के पालक मंत्रियों की इस पर व्यक्तिगत ध्यान देने की जबाबदारी है। ऐसा आह्वान उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने सभी पालक मंत्रियों को पत्र लिखकर किया है।
उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने सर्व जिले के पालक मंत्रियों को लिखे पत्र में कहा है कि राशन दुकानों पर राशन उपलब्ध कराया जाता है। इसके बाद भी शिकायतें बढ रही है। इस बात पर ध्यान देने की बात पत्र में अजीत पवार ने कही है। सरकार ने राशन की दुकानों पर उपलब्ध कराए गए राशन के संबंध में पूरी जानकारी पत्र में दी है। राज्य में राशन का कोटा 3.87 लाख मेट्रिक टन से बढ़कर 7.75 लाख मेट्रिक टन पहुंच गया है। केसरी कार्ड धारकों के लिए 1.52 मेट्रिक टन अतिरिक्त अनाज उपलब्ध कराया गया है। गरीब जनता को राशन आसानी से और सस्ते भाव में उपलब्ध हो। इस बात पर विशेष ध्यान देने की बात उपमुख्यमंत्री ने पालक मंत्रियों को लिखे पत्र में कही है। ताकि बिना कारण सरकार की बदनामी न हो।