" /> मेड, ड्राइवर, प्लम्बर, इलेक्ट्रीशियन, सफाईकर्मी, मैकेनिक, कारपेंटर को सोसायटी में आने की अनुमति है!

मेड, ड्राइवर, प्लम्बर, इलेक्ट्रीशियन, सफाईकर्मी, मैकेनिक, कारपेंटर को सोसायटी में आने की अनुमति है!

मुंबई में लॉकडाउन के कारण कई हाउसिंग सोसायटी में घरेलू मेड, ड्राइवर, सफाई कर्मचारियों, कारपेंटर आदि के प्रवेश पर रोक लगा दी गई थी। हालांकि कई सोसायटी ने अब ढील दे दी है लेकिन कई सोसायटी में अभी भी रोक जारी है। जबकि सरकार की ओर से ऐसी कोई रोक नहीं है। ये कर्मचारी सोसायटी में आ सकते हैं। इन्हें आने की अनुमति है। इसके तहत मेड, ड्राइवर, प्लम्बर, इलेक्ट्रीशियन, सफाईकर्मी, मैकेनिक, कारपेंटर आदि सोसायटी में आ सकते हैं।

गौरतलब है कि कोविड-१९ वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सरकार ने कई उपाय किए हैं। हालांकि, सरकार ने हाउसिंग सोसाइटियों के परिसर में घरेलू कामगारों और ड्राइवरों के प्रवेश को प्रतिबंधित नहीं किया है, इसलिए हाउसिंग सोसाइटियों के परिसर में काम करनेवाले श्रमिकों के प्रवेश को रोका नहीं जाना चाहिए। ऐसा आह्वान सहकारिता मंत्री बालासाहेब पाटिल ने किया है। इनमें आपातकाल में खराब हुई गाड़ी को सोसायटी परिसर में आकर बनानेवाले मैकेनिक, गाड़ियों को धोनेवाले कर्मी आदि का भी समावेश है। ये सोसायटी परिसर में आकर काम कर सकते हैं। कई सोसायटी में ये काम कर भी रहे हैं। समय-समय पर सरकार द्वारा जारी किए गए निर्देशों में घरेलू कामगारों और ड्राइवरों को काम के लिए हाउसिंग सोसायटी के परिसर में प्रवेश करने पर रोक नहीं लगाई गई है, ऐसा पाटील ने कहा। हालांकि कुछ हाउसिंग सोसायटी इन श्रमिकों के प्रवेश को रोक रही हैं। साथ ही कई लोगों से शिकायतें प्राप्त हो रही हैं कि कुछ हाउसिंग सोसायटी के पदाधिकारी अपने स्तर पर सरकार के निर्देशों के खिलाफ नियम तैयार कर रहे हैं। श्रमिकों के प्रवेश के संबंध में, हाउसिंग सोसायटी के पदाधिकारियों को समय-समय पर सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पालन करना चाहिए। इसके अलावा, हाउसिंग सोसायटी के नियमों को सरकार के नियमों के विपरीत नहीं बनाना चाहिए, ऐसा सुझाव पाटिल ने दिया है।