" /> अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव, हिंदुओं का बढ़ा वर्चस्व!, ट्रंप-बाइडेन दोनों उम्मीदवार रिझाने में जुटे

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव, हिंदुओं का बढ़ा वर्चस्व!, ट्रंप-बाइडेन दोनों उम्मीदवार रिझाने में जुटे

पहली बार अमेरिका में हिंदुओं का वर्चस्व काफी बढ़ा हुआ नजर आ रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में डोनाल्ड ट्रंप और जो बाइडेन हिंदुओं को रिझाने में पूरी शिद्दत से जुट गए हैं। अमेरिका में ऐसा पहले कभी देखने को नहीं मिला था कि राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार धार्मिक अल्पसंख्यकों खासकर हिंदुओं को अपने पाले में करने के लिए जी तोड़ कोशिश कर रहे हैं। इससे अमेरिका में हिंदुओं के बढ़ते राजनीतिक महत्व का संकेत मिलता है।
अमेरिका की २०१६ की आबादी में हिंदुओं का प्रतिनिधित्व करीब एक प्रतिशत था। मौजूदा राष्ट्रपति एवं रिपब्लिकन पार्टी से उम्मीदवार ट्रंप के प्रचार अभियान ने उनके दोबारा वाइट हाउस पहुंचने पर अमेरिका में हिंदुओं के लिए धार्मिक स्वतंत्रता की राह में आनेवाली अड़चनों को कम करने का वादा किया है। दूसरी ओर उनके प्रतिद्वंद्वी एवं डेमाक्रेट उम्मीदवार बाइडेन के प्रचार अभियान ने मंगलवार को कहा कि उन्होंने हिंदू समुदाय से संपर्क साधने को प्राथमिकता दी है। अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में पहली बार ट्रंप के प्रचार अभियान ने १४ अगस्त को ‘ट्रंप के लिए हिंदू आवाज’ के गठन की घोषणा की थी। इसके दो दिन बाद, हिंदू समुदाय की प्रख्यात नेता नीलिमा गोनुगुंतला ने डेमोक्रेटिक राष्ट्रीय सम्मेलन को शुरू करने के लिए अंतर-धार्मिक प्रार्थना में भागीदारी की। इस बारे में बाइडेन के प्रचार अभियान ने कहा कि यह अमेरिका में हिंदुओं का राजनीतिक महत्व बढ़ने का एक और संकेत है। अमेरिका में हिंदू-अमेरिकी समुदाय को रिझाने के लिए ट्रंप के प्रचार अभियान के नए गठबंधन का ब्योरा अगले हफ्ते रिपब्लिकन के राष्ट्रीय सम्मेलन में घोषणा किए जाने की उम्मीद है। ट्रंप के प्रचार अभियान ने कहा, ट्रंप के लिए हिंदू धर्म के लाखों अमेरिकी के योगदानों का सम्मान करते हैं। प्रचार अभियान ने कहा कि समावेशी अर्थव्यवस्था, अमेरिका-भारत संबंध का निर्माण और सभी की धार्मिक स्वतंत्रता के लिए पुरजोर समर्थन का कोई जोड़ नहीं है। राष्ट्रपति ट्रंप को फिर से निर्वाचित करने से अमेरिका में हिंदुओं के लिए धार्मिक स्वतंत्रता की अड़चनें कम होंगी।
मंदिर अपराध के लिए कठोर जुर्माना
बाइडेन गत मंगलवार को आधिकारिक रूप से डेमाक्रेटिक पार्टी की ओर से राष्ट्रपति चुनाव के लिए उम्मीदवार घोषित किए गए। राजनीतिक मंच ‘साउथ एशियन्स फॉर बाइडेन’ ने कहा, कि बाइडेन ने हिंदू समुदाय के पास पहुंच बनाने को प्राथमिकता दी है। सप्ताहांत में बाइडेन के प्रचार अभियान ने भारतीय-अमेरिकियों के लिए मंच शुरू किया, जिसमें हिंदू समुदाय की कई प्रमुख चिंताओं को रेखांकित किया गया है। बाइडेन ने मंदिरों में किए गए नफरत से प्रेरित अपराधों के लिए जुर्माना कठोर करने का प्रस्ताव किया है। उन्होंने इस तरह के धर्म स्थलों के लिए सुरक्षा अनुदान बढ़ाने का भी वादा किया है। उन्होंने नफरत से प्रेरित अपराध को अपने न्याय विभाग के लिए प्राथमिकता बनाने की भी बात कही है।