" /> आन लाइन बढ़ी हापुस आम की मांग : मार्केट में खरीददार नदारद

आन लाइन बढ़ी हापुस आम की मांग : मार्केट में खरीददार नदारद

मार्केट में बढ़ी आम की आवक
खरीददारों की बेरूखी से व्यापारी चिंतित

लॉक डाउन में आम खाने के शौकीनों में एक खास ट्रेंड देखने को मिल रहा है। लोग ऑन लाइन के माध्यम से हापुस आम की पेटियां अपने घर तक मंगा रहे हैं जबकि आम खरीदने के लिए मार्केट जाने से बच रहे हैं। इसका उदाहरण नई मुंबई के एपीएमसी मार्केट में देखने को मिल रहा है, जहां आम की आवक तो बढ़ गई है लेकिन लॉक डाउन के वजह से मार्केट में आम के खरीददार नजर नहीं आ रहे हैं। आम के खरीददारो की कमी से व्यापारी चिंतित नजर आ रहे हैं। बता दें कि शहर की तमाम सोसायटियों में आन लाइन आर्डर देकर टेंपो द्वारा हापुस आम मंगाए जा रहे हैं। एपीएमसी फल मार्केट के संचालक संजय पनसारे ने बताया कि इन दिनों मार्केट में हापुस आम की आवक बढ़ गई है। हाल ही में 20 हजार आम की पेटियों को पानी के जहाज द्वारा खाड़ी के देशों में भेजा गया है। खाड़ी देश के कुवैत, सऊदी अरब, कतर, ओमान में आम निर्यात किए गए। मार्केट में उत्तम क्वालिटी के 5 दर्जन हापुस आम की एक पेटी ₹ 2500 में बेची जा रही है लेकिन खरीददार आम खरीदने के लिए कम ही आ रहे हैं। गौरतलब हो कि एपीएमसी प्रशासन ने कोरोना वायरस से बचने के लिए नियमो को सख्त कर दिया है। साथ ही फल मार्केट के भीतर आम को पकाने पर रोक लगा दी गई है। कम से कम 15 हजार रुपए से कम की खरीदी करनेवाले व्यापारियों के मार्केट में आने पर भी रोक लगा दी है। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन तथा मास्क लगाना सभी के लिए अनिवार्य बताया जाता है। मार्केट में आम व्यपारियो के आवागमन कम होने के कारण होलसेल आम व्यपारियो के व्यापार पर भी बुरा असर पड़ा है।