" /> यूपी में दलिताें पर अत्याचार!   एक ही परिवार के चार लोगों की सामूहिक हत्या

यूपी में दलिताें पर अत्याचार!   एक ही परिवार के चार लोगों की सामूहिक हत्या

♦ मां-बेटी से दुष्कर्म की भी आशंका
♦ पुलिस पर भी गंभीर आरोप
♦ दहला प्रयागराज, फाफामऊ के कोतवाल व सिपाही निलंबित

यूपी में अपराधी बेलगाम हैं। पुलिस महज खानापूर्ति तक सीमित है। रोजाना कहीं न कहीं जघन्य वारदातें हो रही हैं। अब प्रयागराज के फाफामऊ थानांतर्गत गोहरी गांव में दिल दहला देने वाली घटना में एक दलित परिवार के चार लोगों की नृशंस हत्या कर दी गई। चारों के सिर पर कुल्हाड़ी से वार कर मारा गया। वारदात में मृत मां-बेटी से दुष्कर्म की भी आशंका जताई जा रही है। फिलहाल पुलिस ने इस संदर्भ में चुप्पी साध रखी है।
घटनाक्रम के मुताबिक, गुरुवार को फूलचंद के घर का मुख्य दरवाजा खुला हुआ था और भीतर से दुर्गंध आ रही थी। शंका होने पर लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। जिस पर पुलिस ने जब तहकीकात की तो फूलचंद (५०), बेटा शिव (१०), पत्नी (४७) व बेटी (१७) का कमरे में खून से सना शव पड़ा हुआ मिला। बुधवार को परिवार का कोई भी सदस्य घर से बाहर नहीं निकला। ऐसे में माना जा रहा है कि मंगलवार की रात चारों को मारा गया। सपना और मीनू के कपड़े भी अस्त-व्यस्त पाए गए। सपना का शव चारपाई के नीचे पड़ा था। घर का मुख्य दरवाजा खुला हुआ था। घर से कुछ ले नहीं जाया गया। ऐसे में लूट-चोरी को लेकर पुलिस हत्या से इंकार कर रही है।

एक परिवार से चल रहा था विवाद
दलित परिवार के चार लोगों की हत्या से गांव में आक्रोश है। जमीन के विवाद को लेकर दो किलोमीटर दूर रहने वाले कमलेश सिंह, राकेश सिंह, कान्हा ठाकुर आदि से इस परिवार का विवाद चल रहा है। कमलेश सिंह जेल में है। एक महीना पहले दलित फूलचंद के परिवार ने कमलेश व अन्य लोगों पर मुकदमा दर्ज कराया था। इसके बाद उस परिवार की ओर से छेड़खानी के आरोप में क्रास एफआईआर दर्ज कराई गई थी। अब इस मामले में भी शोकसंतप्त परिवार ने कमलेश व अन्य  सात लोगों के खिलाफ तहरीर दी है।

फाफामऊ कोतवाल पुलिस पर सवाल
वारदात के बाद आक्रोशित महिलाओं ने पोस्टमार्टम के लिये शव नहीं उठने दिया। इंस्पेक्टर फाफामऊ राम केवट पटेल और सिपाही सुशील पर महिलाओं ने गंभीर आरोप लगाए। जिसपर आईजी राकेश सिंह ने दोनों को निलंबित कर दिया। इसके बाद ही शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा सका। आरोपित परिवार के कई लोगों को एसटीएफ और क्राइम ब्रांच ने हिरासत में ले लिया है।

मां-बेटी से दुष्कर्म की भी आशंका!
प्रकरण में जमीन के विवाद के अलावा पुलिस दुष्कर्म के एंगल से भी जांच कर रही है। क्योंकि मां-बेटी के शव पर कपड़े भी अस्त-व्यस्त पाए गए हैं। फिलहाल पुलिस अभी मौन है। गांव में तनाव को देखते हुए फोर्स तैनात कर दी गई है।