" /> ऑस्ट्रेलियन चलाना चाहते हैं हिंदुस्थानी ट्रेन!

ऑस्ट्रेलियन चलाना चाहते हैं हिंदुस्थानी ट्रेन!

भारतीय रेलवे द्वारा निजी ट्रेन चलाने के किए गए ऐलान के बाद बड़ी कॉर्पोरेट कंपनियां खासी दिलचस्पी दिखा रही हैं। रेलवे की ओर से बुलाई गई पहली प्री-बिड मीटिंग में १६ बड़ी कंपनियों ने हिस्सा लिया। भारत सरकार की ३ पीएसयू से लेकर ऑस्ट्रेलियाई फर्म तक ने रेल पटरियों पर बतौर प्राइवेट प्लेयर ट्रेन चलाने की दिलचस्पी दिखाई है। जिस
ऑस्ट्रेलियाई फर्म ने दिलचस्पी दिखाई है, उसका नाम ‘सीएएफ’ है।
ये हैं वो १६ कंपनियां
पहली प्री बिड मीटिंग में तीन पीएसयू आईआरसीटीसी, भेल (बीएचईएल) और राइट्स शामिल हुए। इसके अलावा भारत फोर्ग, बॉम्बारडियर, जीएमआर ग्रुप, गेटवे रेल, वेदांता, मेधा और आस्ट्रेलियाई कंपनी सीएएफ ने हिस्सा लिया। पहली प्री बिड मीटिंग में टाटा और अडानी बैठक में शामिल नहीं हुए। माना जा रहा था कि पहली प्री बिड की बैठक में ये दोनों कंपनियां शामिल होंगी। इसके अलावा स्पाइसजेट, इंडिगो और मेक माई ट्रिप को लेकर भी चर्चा रही लेकिन बिडिंग प्रक्रिया के पहले पायदान पर ये कंपनियां भी शामिल नहीं थी। जानकारों का कहना है कि प्राइवेट प्लेयर ट्रेन प्रोजेक्ट की अगली प्री बिड मीटिंग ७ अगस्त को होगी।
बता दें कि भारतीय रेलवे ने अपने नेटवर्क पर निजी कंपनियों की यात्री रेलगाड़ियों के परिचालन की अनुमति देने की योजना को औपचारिक रूप से आगे बढ़ाने के लिए इस महीने की शुरुआत में देशभर के १०९ जोड़ा रूटों पर १५१ आधुनिक यात्री रेलगाड़ियां चलाने के लिए प्रस्ताव आमंत्रित किया है।