" /> पुलिस का डंडा खा लेंगे पर परिवार भूखों मरते देखना बर्दाश्त नहीं : भिवंडी में ऑटोरिक्शा शुरू करने की मांग

पुलिस का डंडा खा लेंगे पर परिवार भूखों मरते देखना बर्दाश्त नहीं : भिवंडी में ऑटोरिक्शा शुरू करने की मांग

बेरोजगारी व भुखमरी से परेशान हैं हजारों रिक्शाचालक

वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण देशभर में लागू किए गए लॉकडाउन के कारण विगत 2 महीने से ऑटोरिक्शा पूरी तरह से बंद हैं, जिसके कारण ऑटो रिक्शाचालक-मालिक बेरोजगार हो गए हैं और भुखमरी का दंश झेल रहे हैं, जिसे देखते हुए भिवंडी ऑटो रिक्शाचालक-मालक महासंघ के अध्यक्ष खालिद इरफान ने भिवंडी प्रांत अधिकारी और भिवंडी पुलिस उपायुक्त को ज्ञापन देकर भिवंडी शहर और ग्रामीण क्षेत्र में एक जून से ऑटोरिक्शा शुरू करने की मांग की है।
भिवंडी प्रांत अधिकारी डॉ. मोहन नलदकर और भिवंडी पुलिस उपायुक्त राजकुमार शिंदे को सौंपे गए ज्ञापन में भिवंडी ऑटो रिक्शाचालक-मालक महासंघ के अध्यक्ष खालिद इरफान ने बताया है कि देश में कोरोना महामारी को रोकने के लिए 23 मार्च से लॉकडाउन लागू किया गया है। उसी दिन से भिवंडी शहर और ग्रामीण क्षेत्र में ऑटोरिक्शा पूरी तरह से बंद है। ऑटोरिक्शा बंद हुए 2 महीने से अधिक समय बीत जाने के कारण ऑटोरिक्शा चालक और मालक पूरी तरह से बेरोजगार हो गए हैं। बेरोजगारी का दंश झेलने को मजबूर भिवंडी के गरीब ऑटो रिक्शाचालक भुखमरी और तबाही के कगार पर आ खड़े हुए हैं, जिनके परिवार को खिलाने के लिए राशन तक नहीं बचा है। उनकी मजदूरों से भी बुरी दुर्दशा हो गई है। इसी तरह ऑटोरिक्शा मालिक को बैंक की ईएमआई न भर पाने के कारण उनके कर्ज पर लोन और ब्याज बढ़ता जा रहा है। आए दिन बैंक का फ़ोन ईएमआई भरने के लिए आता रहता है और बैंकवाले ऑटोरिक्शा मालिकों को परेशान कर रहे हैं। स्थिति इतनी खराब हो गई है कि अब बर्दाश्त के बाहर है। कई ऑटो रिक्शाचालक अपने परिवार की भुखमरी की पीड़ा को बर्दाश्त न कर पाने के कारण सड़कों पर मजबूरी में चोरी-छिपे ऑटोरिक्शा चला रहे हैं। पुलिस द्वारा मारपीट किए जाने और रोकने पर ऑटोरिक्शावाले कहते हैं, “पुलिस का डंडा खा लेना बर्दाश्त है लेकिन परिवार को भूखों मरते देखना बर्दाश्त नहीं है।” भिवंडी ऑटो रिक्शाचालक मालक महासंघ के अध्यक्ष खालिद इरफान ने कहा है कि इस तरह की दर्दनाक दशा रिक्शावालों की हो गई है इसलिए लॉकडाउन-4 के समाप्त होने के बाद एक जून, 2020 से लॉकडाउन-5 शुरू हो रहा है, जिसमें भिवंडी शहर तथा ग्रामीण क्षेत्र में ऑटोरिक्शा चालू करने का परमिशन दिया जाए और ऑटो रिक्शाचालक व मालिकों के प