" /> हिंसा के आग में जला बेंगलुरु!, तीन लोगों की मौत

हिंसा के आग में जला बेंगलुरु!, तीन लोगों की मौत

सोशल मीडिया पर पैगंबर साहब को लेकर एक आपत्तिजनक पोस्ट को लेकर बेंगलुरु में आग ऐसी भड़की कि इसमें तीन लोगों की मौत हो गई और करीब ६० से अधिक पुलिस के जवान घायल हो गए। हालांकि अब बेंगलुरु पुलिस ने कांग्रेस विधायक श्रीनिवास के भतीजे को सोशल मीडिया पर अपमानजनक पोस्ट शेयर करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है। बता दें कि इसी पोस्ट के बाद बीती रात बेंगलुरु में हिंसा भड़क उठी और गोलीबारी हुई।

बेंगलुरु पुलिस कमिश्नर कमल पंत ने कहा कि शहर में हिंसा से जुड़े मामलों में अब तक ११० लोगों को गिरफ्तार किया गया है। साथ ही सोशल मीडिया पर पोस्ट करने को लेकर मुख्य आरोपी नवीन को गिरफ्तार कर लिया गया है।

समाचार के मुताबिक कांग्रेस विधायक मूर्ति के भतीजे ने पैगंबर को लेकर सोशल मीडिया पर एक पोस्ट किया था, जिसके बाद अल्पसंख्यक समुदाय का गुस्सा फूट पड़ा और उन्होंने विधायक के घर तोड़फोड़ की। इस मामले पर कर्नाटक के गृहमंत्री ने कहा कि मामले की जांच हो रही है लेकिन तोड़फोड़ से किसी समस्या का समाधान नहीं हो सकता। सुरक्षा के मद्देनजर इलाके में अतिरिक्त बलों को तैनात कर दिया गया है और उपद्रवियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

पुलिस ने कहा कि इस हिंसा में तीन लोगों की मौत हो चुकी है और करीब ६० से अधिक पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं, जिनका इलाज चल रहा है। पुलिस आयुक्त कमल पंत ने बताया कि कथित सोशल मीडिया पोस्ट को लेकर भड़की हिंसा के बाद बेंगलुरु के डीजे हल्ली और केजी हल्ली पुलिस स्टेशन क्षेत्र में उग्र भीड़ से झड़प के दौरान अतिरिक्त पुलिस आयुक्त सहित करीब ६० पुलिसकर्मी जख्मी हो गए।
उन्होंने कहा कि उपद्रवियों पर काबू पाने के लिए की गई फायरिंग में तीन लोगों की मौत हो गई जबकि एक घायल व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बेंगलुरु में सीआरपीसी की धारा १४४ लागू कर दी गई है और डीजे हल्ली व केजी हल्ली पुलिस स्टेशन के अंतर्गत आनेवाले क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा दिया गया है।

मुख्यमंत्री ने दिया कार्रवाई का भरोसा
कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने राजधानी बंगलुरू में हुई हिंसा को लेकर कड़ी कार्रवाई का भरोसा दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा, अपराधियों के खिलाफ निर्देश दिए गए हैं और सरकार ने स्थिति पर अंकुश लगाने के लिए सभी संभव कदम उठाए हैं। पत्रकारों, पुलिस और जनता पर हमला अस्वीकार्य है। सरकार ऐसे उकसावों और अफवाहों को बर्दाश्त नहीं करेगी। अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई निश्चित है।

मुस्लिम युवाओं ने मंदिर को बचाया
बेंगलुरु। सोशल मीडिया पर पैगंबर मोहम्मद साहब को लेकर एक आपत्तिजनक पोस्ट से सांप्रदायिकता की आग ऐसी पैâली कि देखते ही देखते शहर जल उठा और इसमें तीन लोगों की मौत हो गई। हालांकि मंगलवार की रात बेंगलुरु हिंसा के दौरान भारत की असली तस्वीर भी दिखाई दी, जब कुछ मुस्लिम युवाओं ने आगजनी कर रहे अपने ही समुदाय के उपद्रवियों से मंदिर को बचाने के लिए ह्यूमन चेन बनाई। दरअसल मंगलवार की रात को पैगंबर साबह को लेकर सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट को लेकर कनार्टक में बेंगलुरु के देवराजीवनहल्ली (डीजे हल्ली) और काडुगोंडानाहल्ली (केजी हल्ली) थाना क्षेत्र में हिंसा भड़क उठी। आरोप क्योंकि कांग्रेस विधायक के बेटे नवीन पर था इसलिए विधायक श्रीनिवास मूर्ति के घर पर तोड़फोड़ हुई और कई सारी गाड़ियां जलाई गर्इं। इनके घर के सामने एक हनुमान मंदिर भी था, जिसे उपद्रवी तोड़ने के लिए आगे बढ़ रहे थे मगर उनके सामने उनके ही समुदाय के लोग मंदिर के रखवाले बनकर खड़े हो गए।
कांग्रेस ने की घटना की निंदा
बेंगलुरु हिंसा पर कर्नाटक कांग्रेस प्रमुख डीके शिवकुमार ने कहा कि मैं इस घटना की कड़ी निंदा करता हूं और हमारी पार्टी भी इसकी निंदा करती है। यह सोशल मीडिया पर एक व्यक्ति के पोस्ट के कारण हुआ। इस बिंदु पर शांति बनाए रखना महत्वपूर्ण है।