बेस्ट की ‘बेस्ट’ सेवा! -पानी भरा था फिर भी यात्रियों को गंतव्य तक पहुंचाया

मुंबई में लगभग ७२ घंटे से झमाझम बारिश हो रही है। बारिश के कारण मुंबई सहित आस-पास के इलाकों में जल जमाव की स्थिति बनी हुई है लेकिन बेस्ट के ड्राइवर और कंडक्टरों ने मुंबईकरों को इस विकट परिस्थिति में भी अपनी ‘बेस्ट’ सेवा देते हुए यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुंचाया।
बारिश के बावजूद बेस्ट के ९० फीसदी ड्राइवर अपनी ड्यूटी पर कल मौजूद थे। सायन निवासी चंद्रकांत मिश्रा ने बताया कि भले ही हम बेस्ट के ड्राइवरों को हमेशा कोसते हैं लेकिन जब मुंबई में सभी जगह कल जलजमाव था। इसी बीच बेस्ट के ड्राइवर और कंडक्टर अपने बेस्ट से सर्विस देकर यात्रियों को उनके सफर तक पहुंचा रहे थे। बेस्ट बस के एक ड्राइवर ने बताया कि बस जलजमाव की वजह से वडाला के पास फंस गई थी लेकिन कुछ समय बस रोकने के बाद जब पानी का स्तर कुछ कम हुआ तो यात्रियों को उनकी मंजिल तक पहुंचाया गया। बेस्ट के प्रवक्ता हनुमंत गोफाणे का कहना है कि बारिश के दौरान बस ड्राइवर और कंडक्टरों की उपस्थिति ९० फीसदी रही। गौरतलब है कि बेस्ट के पास १० हजार ड्राइवर और इतने ही कंडक्टर हैं।
४५ साल का टूटा रिकॉर्ड
मुंबई में मूसलाधार बारिश का दौर जारी है। लगातार हो रही झमाझम बारिश ने ४५ साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। सुबह ८ बजे से तक पिछले २४ घंटे में सबसे अधिक बारिश दर्ज की गई। २६ जुलाई २००५ को मुंबई ऐसे ही जलप्रलय का गवाह बनी थी। सांताक्रुज मौसम विभाग के मुंबई क्षेत्रीय केंद्र से मिले आंकड़ों के मुताबिक पिछले २४ घंटे के दौरान ३७५.२ एमएम बारिश हुई है। मुंबई में २००५ में आई बाढ़ को छोड़ दें तो ५ जुलाई १९९४ के बाद मुंबई में एक दिन में हुई यह सबसे अधिक बारिश है। उस दिन सांताक्रुज मौसम विभाग ने ३७५.२ एमएम बारिश दर्ज की थी।
हवाई उड़ानें रद्द
मूसलाधार बारिश के चलते मुंबई के छत्रपति शिवाजी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर ५४ विमानों को दूसरी जगह भेजना पड़ा और ७० उड़ानें रद्द कर दी गर्इं। मूसलाधार बारिश के कारण जयपुर से आ रहा ‘स्पाइसजेट’ का विमान मुंबई हवाई अड्डे के मुख्य रनवे से फिसल गया। इस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ। इस कारण मुख्य रनवे बंद कर दिया गया जिसे शुरू होने में ४८ घंटे का समय लग सकता है। वहीं मुंबई एयरपोर्ट के ट्विटर हैंडल से ये लिखा गया कि उड़ान में देरी हो सकती है। एयरपोर्ट पहुंचने से पहले अपने एयरलाइंस से जानकारी ले लें।
मीठी नदी उफान पर
मीठी नदी के उफान पर होने के कारण किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए १००० से अधिक लोगों को क्रांति नगर, कुर्ला से हटा लिया गया है। कुर्ला में एनडीआरएफ नौसेना और दमकल विभाग ने संयुक्त अभियान चलाकर १ हजार से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थान पर भेज दिया है।