" /> नपेगें मनपा के 150 कामचोर शिक्षक

नपेगें मनपा के 150 कामचोर शिक्षक

◼️उपायुक्त ने भेजा कारण बताओ नोटिस
◼️शहर से बाहर न जाने का निर्देश के बाद भी गए गांव
◼️मरीजों के सर्वेक्षण पर पड़ रहा असर
लॉकडाउन के दौरान बढ़ते कोरोना वायरस के दुष्प्रभाव को रोकने के लिए कराए जा रहे सर्वेक्षण कार्य में हाजिर न होनेवाले तकरीबन 150 शिक्षकों का नपना तय है क्योंकि मनपा प्रशासन के सख्त आदेश के बावजूद ज्यादातर शिक्षक मनपा द्वारा दिए गए काम को न कर अपने गांव में छुट्टी बिताने चले गए हैं, ऐसे कामचोर, गैरजिम्मेदार शिक्षकों को मनपा के उपायुक्त दीपक कुरलेकर ने कारण बताओ नोटिस जारी किया है। नोटिस के बाद से उक्त शिक्षकों में हड़कंप मच गया है।
बता दें कि कोरोना वायरस के कहर को रोकने के लिए किए गए लॉकडाउन के बाद भिवंडी में लाखों बेरोजगार मजदूर फंस गए हैं। साथ ही भिवंडी में कोरोना के 18 से ज्यादा मरीज भी पाए गए हैं। भिवंडी मनपा ने मनपा स्कूलों में कार्यरत शिक्षकों को स्कूल की छुट्टी होने पर शहर से बाहर न जाने का सख्त निर्देश दिया था, जिसके बाद मनपा प्रशासन ने मरीजों की बढ़ती संख्या पर अंकुश लगाने के साथ ही मजबूर, लाचार मजदूरों के लिए शुरू किए गए कम्युनिटी किचन में सहायक के साथ ही शहर में बुखार, दमा, अस्थमा, बीपी, शुगर सहित 60 साल के लोगों का सर्वेक्षण करने की जिम्मेदारी मनपा प्रशासन ने मनपा स्कूल के चार सौ शिक्षकों को दी है, जिन्हें घर-घर जाकर इसका सर्वेक्षण करना था लेकिन अधिकारियों के आदेश से बेखौफ ये सभी शिक्षक स्कूल बंद होते ही अपने गृह जनपद औरंगाबाद, जलगांव, बुलढाणा, अमरावती, नासिक सहित अन्य जिले में चले गए, जिसके कारण कोरोना महामारी के चलते सरकार पर बोझ बढ़ गया। सर्वेक्षण कार्य में सरकारी कर्मचारी की कमी नजर आने लगी, जिसके बाद संबंधित विभाग ने दो बार नोटिस जारी कर ड्यूटी पर आने के सख्त आदेश दिए हैं लेकिन ये लोग नोटिस को नजरअंदाज कर अभी तक ड्यूटी पर हाजिर नहीं हुए। भिवंडी मनपा के उपायुक्त दीपक कुरलेकर ने कामचोर शिक्षकों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। उपायुक्त दीपक कुरलेकर ने बताया कि उक्त नोटिस भेजकर आदेश के बावजूद ड्यूटी पर न हाजिर होने के कारण के बारे में नोटिस मिलने के 24 घंटे में लिखित जवाब मांगा गया है। उन्होंने बताया कि जिसका जवाब गलत मिलेगा या प्रशासन को गुमराह करते हुए जो इसे नजरअंदाज करेगा, उस पर कार्रवाई किया जाना तय है। हालांकि दीपक कुरलेकर के नेतृत्व में कोरोना के रोकथाम व इसकी गाइड लाइन पर मनपा प्रशासन जमकर काम कर रही है, जिससे यहां पर कोरोना पूरी तरह से नियंत्रण में है।लेकिन उनके नोटिस से कामचोर शिक्षकों में खलबली मच गई है।