" /> मुख्तार गैंग के खिलाफ राजधानी में अब तक कि सबसे बड़ी छापेमारी, 11 गिरफ्तार, अवैध असलहे भी बरामद

मुख्तार गैंग के खिलाफ राजधानी में अब तक कि सबसे बड़ी छापेमारी, 11 गिरफ्तार, अवैध असलहे भी बरामद

मऊ के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी गिरोह के खिलाफ मंगलवार को राजधानी लखनऊ में पुलिस ने अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई की है। 15 थानों की 48 स्पेशल टीमों ने एक साथ 42 जगहों पर छापेमारी की गई। इस दौरान विदेशी पिस्टल, देसी तमंचा समेत दो दर्जन असलहे बरामद हुए हैं। 11 गुर्गों को गिरफ्तार किया गया है। जबकि 21 लोगों को हिरासत में लिया गया है। जिनसे पूछताछ चल रही है। उनके खिलाफ यदि आपराधिक मामले निकले तो उन्हें भी जेल भेजा जाएगा।

उत्तर प्रदेश  सरकार द्वारा लगातार माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। मंगलवार को पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडेय के निर्देश पर क्राइम ब्रांच और 15 थानों की फोर्स द्वारा मुख्तार अंसारी के करीबियों के घर छापेमारी की। दरअसल, रविवार और सोमवार को मुख्तार अंसारी के दो करीबियों ने एक दूसरे के खिलाफ रुपए हड़पने और धमकी देने का मुकदमा हुसैनगंज थाने में दर्ज कराया था। इस मामले में अतीक अहमद नाम के गुर्गे को पुलिस ने पकड़ा था। इसी के बाद सुनियोजित तरीके से मंगलवार सुबह-सुबह सात बजे से राजधानी के वीवीआईपी क्षेत्र गोमती नगर विस्तार और पश्चिमी लखनऊ, चौक, वजीरगंज, कृष्णा नगर इलाके में ताबड़तोड़ छापेमारी की गई। एसीपी चौक आईपी सिंह के नेतृत्व में वजीरगंज इंस्पेक्टर श्याम बाबू शुक्ला ने भारी फोर्स के साथ मुख्तार अंसारी के गुर्गे बाबू सिंह को गिरफ्तार किया है। उसे पुलिस ने विभूति खंड से गिरफ्तार किया है। बाबू सिंह गाजीपुर थाने का हिस्ट्रीशीटर है। वहीं, डीसीपी पूर्वी चारु निगम के नेतृत्व में गोमती नगर विस्तार के अपार्टमेंट के ई ब्लॉक में छापा मारकर वाराणसी के रहने वाले प्रदीप सिंह को पकड़ा है। अपार्टमेंट से कई सामानों को कब्जे में लिया गया है।