" /> लॉकडाउन बना काल!… धंधा मंदा हुआ तो पूरे परिवार को दिया जहर

लॉकडाउन बना काल!… धंधा मंदा हुआ तो पूरे परिवार को दिया जहर

यूपी के बुलंदशहर में आर्थिक तंगी के चलते चाय की दुकान करनेवाले व्यक्ति ने पत्नी-बेटे को जहरीली दवा खिलाकर खुद भी जान देने की कोशिश की। अस्पताल में पत्नी की मौत हो गई जबकि चाय विक्रेता और उसके बेटे को हायर सेंटर रेफर कर दिया गया है।
कोतवाली देहात क्षेत्र के गांव काहिरा निवासी बलबीर (५५) भूड़ चौराहे के निकट चाय की दुकान करता था। कुछ साल पहले दुकान शुरू करने के बाद बलवीर अपनी पत्नी रामवती (५२) और पुत्र दिन्नी उर्फ दीपक (११) को भी अपने साथ ले आया और भूड़ चौराहे के समीप ही रहने लगा। दीपक प्राइमरी स्कूल में पांचवीं कक्षा का छात्र है। लॉकडाउन के बाद से ही चाय की दुकान का काम काफी मंदा चल रहा था। बताया जाता है कि चाय की दुकान से होनेवाली बिक्री से घर का खर्चा तक नहीं चल पा रहा था। सोमवार रात को बलवीर ने जहरीली दवा का एक वैâप्सूल खुद खाया और फिर अपनी पत्नी रामवती व पुत्र दीपक को भी वैâप्सूल खिला दिया। इसके बाद तीनों सो गए। सुबह घर का दरवाजा काफी देर तक नहीं खुलने पर कुछ लोग वहां पहुंचे। इस पर दीपक बदहवास हालत में उल्टियां करता हुआ बाहर आया। उसने लोगों को बताया कि मां और पिता बेहोश हालत में हैं, लोगों ने पुलिस को सूचना देते हुए परिवार को जिला अस्पताल पहुंचाया। अस्पताल में बलवीर की पत्नी रामवती की मौत हो गई जबकि बलवीर और पुत्र दीपक को मेरठ रेफर कर दिया गया है। कोतवाली देहात के कार्यवाहक प्रभारी दलवीर सिंह ने बताया कि दीपक ने पूरी घटना के बारे में बयान दिया है।
मामले की जांच शुरू कर दी गई है। एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने बताया कि बलवीर ने खुद कोई दवा खाई और अपनी पत्नी एवं पुत्र को भी खिला दी। अस्पताल में पत्नी की मौत हो गई जबकि बलवीर और उसके पुत्र को हायर सेंटर रेफर कर दिया गया है। बलवीर के होश में आने के बाद उससे पूछताछ के बाद ही घटना की तह तक पहुंचा जा सकेगा।