ऋग्वेद विश्व ज्ञान का प्राचीनतम कोष है

भारतीय दर्शन तत्व खोजी है। इस तत्वजिज्ञासा के बीज ऋग्वेद में हैं। इस तरह दार्शनिक विकास का पहला चरण ऋग्वेद

Read more

क्रोध नष्ट करे बोध! ओज दें, शत्रुनाश करें, हमको कुशल देश बनाएं

ऋग्वेद का देवतंत्र, अनूठा और अद्वितीय है। देव अनेक हैं, प्रत्यक्षतया वे अलग-अलग हैं लेकिन सब ‘एकं सद् विप्रा बहुधा

Read more