" /> मध्य रेलवे में पूरी हुई 90 किमी की नाला सफाई : जारी है मॉनसून की तैयारी

मध्य रेलवे में पूरी हुई 90 किमी की नाला सफाई : जारी है मॉनसून की तैयारी

कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच मुंबई के उपनगरीय मार्ग पर कम मानव बल की मदद से रेलवे मानसून की तैयारी कर रही है। पहले चरण के तहत मध्य रेलवे ने उपनगरीय मार्ग पर 90 किमी की नाला सफाई अब तक पूरी कर ली है। गौरतलब है कि मानसून में सबसे अधिक ट्रेनों के परिचालन में ट्रैक पर होनेवाले जलजमाव परेशानी का सबब बनते हैं।

चलाई जा रही है मक स्पेशल ट्रेन
मध्य रेल पर मानसून के दौरान मुंबई मंडल पर रेल सेवाएं सुचारू रूप से चलती रहें इसके लिए 16 से अधिक जेसीबी नालियों की सफाई में लगाए गए है। अब तक, 90 किलोमीटर की नाली की सफाई और पुलिया की सफाई का पहला चरण पूरा हो चुका है। इस लॉकडाउन अवधि के दौरान पर्याप्त ब्लॉक के साथ 3 बीआरएन मग स्पेशल और 2 ईएमयू मक स्पेशल मलबों को हटाने के लिए चलाया जा रहा है।

कलवर्टस का चौड़ीकरण / विस्तार

मॉनसून के दौरान ट्रैक के आसपास जलजमाव न हो इससे बचने के लिए कुर्ला कार-शेड, वडाला और तिलक नगर में कई जगहों पर कलवर्ट का चौड़ीकरण किया जा रहा है। इस क्षेत्रों को बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के रूप में पहचाना जाता है।

पंपों का प्रावधान
मध्य रेल ने तेज जल निकासी के लिए भारी क्षमतावाले डीजल और इलेक्ट्रिक पंप प्रदान करने की योजना बनाई है ताकि पानी का मुक्त प्रवाह सुनिश्चित किया जा सके, पानी पटरियों से जल्दी से निकल जाए और मानसून की अवधि के दौरान ट्रेन संचालन बाधित न हो।

ट्रैक्शन डिस्ट्रीब्यूशन विंग
मध्य रेल की टीआरडी विंग भी पॉवर ब्लॉक द्वारा ट्रेनों के सुचारू संचालन के लिए क्रॉसओवर, टर्नआउट्स, मास्ट्स, कैंटीलेवर्स आदि के रखरखाव को सुनिश्चित कर रही है। टॉवर वैगन और फुट पैट्रोलिंग द्वारा लाइव लाइन की जांच ट्रेनों के सुचारू रूप से चलने के लिए ओएचई गियर की जांच सुनिश्चित की जा रही है। बुरी तरह से जंग खाए नग पोर्टल को हटाने, घाट खंडों में सुरंग ओएचई ओवरहालिंग, पूरे मुंबई मंडल में आरओबी / एफओबी के तहत महत्वपूर्ण निकासी की जांच और रखरखाव, उच्च दबाव जेट की इन-हाउस तकनीक द्वारा इंसुलेटर की सफाई भी की जा रही है।

इलेक्ट्रिकल जनरल
22 केवी, 3 एमवीए ट्रांसफार्मर की सफाई और सीएसएमटी पर टीएमएस सबस्टेशन आउटगोइंग कनेक्शनों को कसने, पार्सल बिल्डिंग, सीएसएमटी पर पावर पैनल और लाइटिंग पैनल और आउटगोइंग कनेक्शनों को कड़ा करना, सीएसएमटी प्लेटफार्मों पर सभी रेक्टिफायर ढीले कनेक्शनों को साफ और कड़ा करना और आउटगोइंग कनेक्शनों का तापमान मापना, मुंबई मंडल के विभिन्न स्थानों पर पंपों का ओवरहॉलिंग और ब्रेकडाउन पर ध्यान दिया गया।

घाट सेक्शन
घाट सेक्शन में हर साल भूस्खलन का खतरा बना रहता है। ऐसे में बोल्डर को स्कैन और ड्रॉप करने के लिए बोल्डर मटेरियल ट्रेन को चलाया जा रहा है।
ढीले बोल्डर की पहचान करने के लिए हिल गैंग घाट मार्ग पर निरंतर जांच कर रहे हैं।