" /> चीन ने लद्दाख भेजे कुंग फू ट्रेनर!

चीन ने लद्दाख भेजे कुंग फू ट्रेनर!

पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी में हिंसक झड़प के बाद अब ड्रैगन को डर लग रहा है। भारतीय जांबाजों ने बिना किसी गोली-बंदूक के ४३ चीनी सैनिकों को मौत के घाट उतार दिया था। इस बीच खबर है कि चीन अब अपने सैनिकों को कुंग फू की ट्रेनिंग देने जा रहा है। इसके लिए सीमा पर ट्रेनर को भेजा जा रहा है। इस बात का खुलासा खुद चीन की पीपुल्स डेली ने किया है।

खबर के अनुसार मार्शल आर्ट के २० ट्रेनर को तिब्बत भेजा जा रहा है। मार्शल आर्ट युद्ध की एक पुरानी कला है। इसका इस्तेमाल आमतौर पर सेल्फ डिंफेस के लिए किया जाता है। भारत और चीन के बीच १९९६ में हुए समझौते के तहत दोनों देश के सैनिक सीमा पर हथियारों का इस्तेमाल नहीं करते हैं। साथ ही गोला-बारूद फेंकने की भी इजाजत नहीं है। ऐसे में कहा जा रहा है कि आनेवाले दिनों में चीन वास्तविक नियंत्रण रेखा पर मार्शल आर्ट का इस्तेमाल कर सकता है।

चीन के सरकारी टीवी चैनल के मुताबिक, मार्शल आर्ट सिखाने के लिए इनबो फाइटर क्लब से २० ट्रेनर को तिब्बत भेजा जा रहा है। हालांकि चीन की सेना की तरफ से इस पर कोई अधिकारिक बयान नहीं आया है। मार्शल आर्ट के अलग-अलग फॉर्म को ओलंपिक में भी शामिल किया जाता है और इस खेल में दक्षिण कोरिया के बाद चीन का भी दबदबा रहा है।

पिछले दिनों गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प में भारत के २० सैनिक शहीद हो गए थे। बता दें कि सीमा पर चीन कई इलाकों को लेकर अपनी जिद पर अड़ा है। उसके झूठे दावों को भारत लगातार खारिज कर रहा है। ऐसे में अब तक बातचीत का कोई नतीजा नहीं निकला है। चीन के साथ बीजिंग और लद्दाख में कई दौर की बातचीत हो चुकी है। भारत ने कहा है कि चीन पहले की स्थिति बरकार रखे।