" /> नहीं चेते तो चेता देगा नया कोरोना…. चीन के नए म्यूटेंट ने बढ़ाई चिंता!

नहीं चेते तो चेता देगा नया कोरोना…. चीन के नए म्यूटेंट ने बढ़ाई चिंता!

♦  यूरोप में चौथी लहर से हाहाकार
♦  स्वास्थ्य विभाग ने दी चेतावनी

महाराष्ट्र सरकार के अथक प्रयासों से कोरोना नियंत्रण में बड़ी सफलता मिली है। ये कोशिशें कहीं विफल न हो जाएं, इसके लिए हमेशा सचेत रहिए। अभी नहीं चेते तो चीन का नया कोरोना हाहाकार मचा सकता है। चीन के नए जैविक म्यूटेंट ने दुनियाभर की चिंता बढ़ा दी है। ये हम नहीं कह रहे, यह चेतावनी राज्य सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना टास्क फोर्स और शोधकर्ताओं की सलाह पर दी है। अमेरिका सहित यूरोपीय देशों में चौथी लहर ने हाहाकार मचा रखा है और वहां की अर्थव्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो गई है तथा इसका असर हिंदुस्थान पर भी पड़ रहा है।
नियमों का पालन करने की सलाह
महाराष्ट्र में कोरोना पर नियंत्रण करने के बाद शर्तों के दायरे में रहते हुए कई प्रतिबंध हटा लिए गए हैं। कोरोना नियमों का पालन करने की सलाह सभी को दी गई है। हालांकि कई लोग नियमों का पालन करते हुए नहीं दिखाई दे रहे हैं। भीड़ बढ़ रही है और लोग न तो सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं और न ही मास्क लगा रहे हैं। अगर नियमों का पालन नहीं हुआ तो गंभीर स्थिति फिर पैदा हो सकती है। स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे बताते हैं कि लोग नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। भीड़भाड़ वाले इलाकों, रेस्टोरेंट-होटल और सड़कों पर कई लोग बेफिक्र घूमते नजर आ रहे हैं। इसके लिए पुलिस और संबंधित मशीनरी ध्यान दें।
सभी को सूचित करें और नियमों का पालन न करनेवालों पर उचित कार्रवाई करें। अगर हालात यही रहे तो आनेवाले दिनों में स्थिति बिगड़ सकती है।
पशुजनित बीमारियों के अठारह नए वायरस
शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में पता लगाया है कि दुनियाभर में कोरोना पैâलानेवाले चीनी बाजारों में पशु जनित बीमारियों के अठारह नए वायरस पाए गए हैं। शोधकर्ताओं ने पाया है कि जानवरों में ये नए टॉक्सिन इंसानों को संक्रमित कर सकते हैं। अमेरिका समेत कई यूरोपीय देशों में चौथी लहर चल रही है। ऐन क्रिसमस को लगे झटके ने देश के पर्यटन व्यवसाय और अर्थव्यवस्था को बुरी तरह प्रभावित किया है। ऑस्ट्रिया पूरी तरह से लॉक करनेवाला यूरोप का पहला देश बन गया। यहां तक कि जर्मनी जैसा देश भी इस चौथी लहर की चपेट में आ गया है। यह सौभाग्य की बात है कि हमारे देश हिंदुस्थान में यह स्थिति पैदा नहीं हुई है लेकिन कोरोना का संकट अभी टला नहीं है। यदि सचेत नहीं रहे तो स्थितियां फिर भयावह हो सकती हैं।
चीन से सतर्क रहने की जरूरत
कपड़ा एसोसिएशन के अध्यक्ष एसपी आहूजा बताते हैं कि वाकई हमें सावधान रहना चाहिए। कोरोना नियमों का पालन करना अनिवार्य है। अमेरिका सहित यूरोपीय देशों में चौथी लहर ने हाहाकार मचा रखा है। इसका असर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देखा जा रहा है। हिंदुस्थान का आयात-निर्यात का ४० प्रतिशत कारोबार प्रभावित हुआ है। कपड़ा व्यापार पर तो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। साम्राज्य की मंशा रखने वाले चीन से सतर्क रहने की जरूरत है।