" /> महाराष्ट्र को बदनाम करने की साजिश का पर्दाफाश!, मुंबई पुलिस का अपमान, भाजपा ने पांडे को दिया इनाम, कांग्रेस का सीधा आरोप

महाराष्ट्र को बदनाम करने की साजिश का पर्दाफाश!, मुंबई पुलिस का अपमान, भाजपा ने पांडे को दिया इनाम, कांग्रेस का सीधा आरोप

भाजपा ने अभिनेता सुशांत सिंह मामले का इस्तेमाल कर महाराष्ट्र को बदनाम करने की साजिश रची थी। भाजपा की इस नीच साजिश का अब पर्दाफाश हो गया है। इस साजिश का हिस्सा रहे बिहार के पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडे ने मुंबई पुलिस को बदनाम करने की मुहिम चलाई थी। अब पांडे को भाजपा की ओर से इसका इनाम दिया गया है। ऐसा स्पष्ट आरोप कांग्रेस ने लगाया है।
इसके साथ ही इस सिलसिले में प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता सचिन सावंत ने मोदी के अत्यंत प्रिय राकेश अस्थाना के नेतृत्व वाले एनसीबी से तीन सवाल पूछे हैं। इसमें पहला है कि मुंबई में एनसीबी का कई वर्षों से कार्यालय है और बॉलीवुड मुंबई में है। लेकिन अभी तक उन्होंने बॉलीवुड और ड्रग कनेक्शन के बारे में जांच क्यों नहीं की? दूसरे, ईडी ने सुशांत मामले में ड्रग एंगल की जांच के लिए एनसीबी को बुलाया था। एनसीबी ने १५/२०२० की पहली एफआईआर के अनुसार अब तक एक भी गिरफ्तारी नहीं की है। जो गिरफ्तारी हुई है वह १६/२०२० की दूसरी एफआईआर के अनुसार। सुशांत सिंह मामले में एनसीबी ने अपनी जांच छोड़ दी है क्या? यह स्पष्ट करें। तीसरा, बॉलीवुड को ड्रग्स से जोड़ने के लिए एनसीबी के पास कोई पुख्ता सबूत नहीं है? संसद में सरकार के बयान पर एनसीबी का क्या मत है? बिहार पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडे ने वीआरएस के लिए आवेदन किया और उसे तत्काल मंजूरी दे दी गई। इसके लिए तीन महीने की नोटिस देनी होती है, परंतु पांडे ने आवेदन किया और सरकार ने मेहरबानी दिखाते हुए तत्काल मंजूर कर लिया। ऐसे में साफ है कि भाजपा की ओर से बड़ा तोहफा पांडे को दिए जाने की संभावना है। ऐसा सावंत ने कहा।