" /> बेवजह घूमने में है कोरोना का खतरा  : अनावश्यक गतिविधियों पर रोक जरूरी- मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

बेवजह घूमने में है कोरोना का खतरा  : अनावश्यक गतिविधियों पर रोक जरूरी- मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

कोरोना संकट की ऊंचाई पर मुंबई और आस-पास के लोग बिना कारण घर से बाहर भटकते हुए दिखाई देते हैं और वाहनों को बाहर निकालते हैं तथा सड़कों पर भीड़ लगाते हैं, यह बात ठीक नहीं है। यह कोरोना चुनौती को बहुत बढ़ा देगा, जिसके कारण सरकार के सामने भारी चुनौती खड़ी हो जाएगी। यह कहते हुए, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने स्पष्ट किया कि पुलिस द्वारा 2 किमी की दूरी का प्रतिबंध लगाने के पीछे उद्देश्य स्वतंत्र और अनावश्यक घूमने पर रोक लगाना है। मुख्यमंत्री बारिश, कोरोना और मुंबई से संबंधित अन्य नागरिक मुद्दों पर एक वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से हुई बैठक में बोल रहे थे। यदि आप अनलॉक में नियमों के अनुसार कार्यालयों में जा रहे हैं, यदि आपको अस्पताल जाने की आवश्यकता है या अन्य आवश्यक कारणों से कोई भी आपको नहीं रोकेगा लेकिन यदि आप बिना किसी कारण से बाहर घूमने जाते हैं और  ट्रैफिक जाम होता है, तो याद रखें कि आप खुद को और दूसरों को खतरे में डाल रहे हैं, ऐसा मुख्यमंत्री ने चेताया। इस मौके पर सांसद अनिल देसाई, परिवहन मंत्री अनिल परब, विधायक सुनील प्रभु ने इस बैठक में सहभागी होकर अपने सुझाव दिए। इस बैठक में मुख्य सचिव अजोय मेहता, एमएमआरडीए आयुक्त आर राजीव, बृहन्मुंबई मनपा के अधिकारी उपस्थित थे। अपने घर के आस-पास के क्षेत्रों में किराने का सामान, खाद्यान्न, आवश्यक, दवाइयां, सब्जियां पा सकते हैं। ऐसी परिस्थिति आज मुंबई की है। यदि आप सुबह और शाम को बगीचों, मैदानों में जाना चाहते हैं, तो आप आस-पास के स्थानों पर जा सकते हैं। कई लेन-देन खोले गए हैं इसलिए आपको एक नागरिक के रूप में जिम्मेदारी का पालन करना आवश्यक है, ऐसा मुख्यमंत्री ने कहा।

*साफ सफाई में समन्वय रखें *  
मुंबई मनपा और एमएमआरडीए समन्वय बनाकर काम करें, ताकि बारिश में कहीं पानी जमा न हो, नागरिकों को परेशानी न हो। इस बात को ध्यान रखकर नाले की स्वच्छता, साफ-सफाई करते हुए जनप्रतिनिधियों सहित अन्य सभी के संपर्क में रहकर काम को पूर्ण करने के निर्देश मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने दिए।
बारिश में मेट्रो के काम होने के कारण तैयार हुए गड्ढे में दुर्घटना होने, रोगों को बढ़ने की संभावना को देखते हुए सभी प्राधिकरण को एक साथ मिलकर काम करने की बात मुख्यमंत्री ने कही।
जिन स्थानों पर आज श्रमिकों की कमी है, वहां स्थानीय लोगों को रोजगार देकर मेट्रो और अन्य बुनियादी ढांचे के काम तुरंत शुरू किए जाने चाहिए, जहां आंशिक रूप से निर्माण किया गया है। कचरे और सामग्री के ढेर को एक तरफ रखना बहुत महत्वपूर्ण है। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि बारिश अभी तेज नहीं हुई है। रेलवे, बीपीटी, एयरपोर्ट अथॉरिटी को एक-दूसरे के साथ समन्वय करना चाहिए, ऐसा मुख्यमंत्री ने कहा।
इस मौके आर राजीव ने कहा कि विभिन्न स्थानों पर मेट्रो का एक नियंत्रण कक्ष है और वहां 24 घंटे अधिकारी और इंजीनियर उपलब्ध रहते हैं ताकि किसी भी मामले में उनका ध्यान तुरंत खींचा जा सके। मुख्य सचिव ने कहा कि आनेवाले बारिश के मौसम में हमें अन्य बीमारियों से लड़ना होगा इसलिए सभी को सावधान और सतर्क रहने की जरूरत है। बारिश के मौसम में पंप चालू हैं या नहीं, क्या उनके पास डीजल है कि नहीं? सहित छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखना होगा। मेट्रो मार्ग पर काम के लिए जहां कम तीव्रता के विस्फोट किए जाते हैं, जिनके कारण अगल-बगल की इमारतों के निर्माण कार्य का ऑडिट करने और इस कार्य में स्थानीय लोगों को प्राथमिकता देने की आवश्यकता है, जैसे अनेक महत्वपूर्ण मुद्दों पर इस बैठक में चर्चा हुई।