" /> आवाज से होगी कोरोना की जांच!

आवाज से होगी कोरोना की जांच!

देश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। महाराष्ट्र इस वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित है। राज्य में मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। अब यहां कोरोना टेस्टिंग के लिए एक नई तकनीक का इस्तेमाल होनेवाला है। यह है ‘आवाज तकनीक’ से जांच। इस तकनीक के बाद ‘आवाज’ से ही कोरोना की जांच हो जाएगी।
महाराष्ट्र में कोरोना से निपटने के लिए सरकार लगातार नए कदम उठा रही है। ऐसे में वॉयस सैंपल (आवाज के नमूने) से टेस्टिंग भी एक अलग कदम ही है। बताया जाता है कि प्रâांस और इटली में इस तकनीक से कोरोना मरीजों की जांच हुई है और वहां यह तकनीक सफल हुई है। राज्य में कोरोना की स्थित पर बात करें तो शनिवार को ११ हजार ८१ मरीज ठीक होकर घर गए हैं। इसके बाद मरीजों के ठीक होने का आंकड़ा ३ लाख ३८ हजार २६२ हो गया है। शनिवार तक महाराष्ट्र में रिकवरी रेट ६७.२६ प्रतिशत था और १२ हजार ८२२ नए केस सामने आए थे। कोरोना से २७५ लोगों की मौत हुई थी। २६ लाख ४७ हजार २० सैंपल में से ५ लाख ३ हजार सैंपल पॉजिटिव पाए गए थे। सूबे में अभी ९ लाख ८९ हजार ६१२ मरीज होम क्वॉरंटीन हैं और ३५ हजार ६२५ इंस्टीट्यूशनल क्वॉरंटीन है। महाराष्ट्र में कुल १ लाख ४७ हजार ४८ एक्विट केस हैं।