" /> कोस्टल रोड को नहीं रोक पायेगा कोरोना, १०% से भी ज्यादा काम हुआ पूरा

कोस्टल रोड को नहीं रोक पायेगा कोरोना, १०% से भी ज्यादा काम हुआ पूरा

कोरोना वायरस के कारण किए गए लॉकडाउन में भी मुंबई में ट्रैफिक की समस्या को दूर करनेवाली मनपा की महत्वाकांक्षी कोस्टल रोड परियोजना का कार्य जारी है। कोरोना इस परियोजना के निर्माण कार्य में लगे मजदूर पूरी सुरक्षा का पालन कर रहे हैं जिससे कोरोना उनसे दूर ही है। अभी तक कोस्टल रोड के कार्य में संलग्न ४०० कर्मचारियों में से मात्र एक कर्मचारी में कोरोना पॉजिटिव पाया गया है और उसने भी कोरोना वायरस को मात देकर उस पर जीत हासिल कर ली है।

बता दें कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की संकल्पना पर आधारित कोस्टल रोड के कार्य को मुंबई के दक्षिण भाग में प्रिंसेस स्ट्रीट और बांद्रा सी-लिंक पर गति दी जाएगी। इस रोड के बनने के बाद मुंबईकरों का ट्रैफिक में ७० प्रतिशत समय बच पाएगा। इसी के साथ ३४ प्रतिशत ईंधन की भी बचत होगी। इस रोड के बनने के बाद पर्यावरण प्रदूषण में भी कमी देखने को मिलेगी। इसलिए सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखते हुए सुरक्षा और बचाव के उपायों के साथ कोस्टल रोड का कार्य प्रगति के पथ पर है। इसके अलावा लॉकडाउन के कारण अपने गांव गए मजदूर भी वापस लौटने लगे हैं, जिसके कारण काम को और अधिक गति मिलेगी। वर्तमान में कोस्टल रोड की पाइलिंग और कॉन्क्रीटिंग का कार्य चल रहा है। अभी तक कुल काम का १० प्रतिशत से ज्यादा पूरा हो चुका है। इसके अलावा अभी प्रिंसेस स्ट्रीट से वर्ली सी-लिंक के ९.९८ किमी रास्ते में ३.४५ किमी की सुरंग खोदने का कार्य शुरू है।

ऐसे किया जा रहा है कर्मचारियों का बचाव
कोस्टल रोड के कार्य में लगे कर्मचारियों को कोरोना वायरस से बचाने के लिए मनपा विशेष ध्यान दे रही है। वायरस से लड़ने के लिए सभी कर्मचारियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाती है। इसके अलावा सभी को सेनिटाइजर रखने और मास्क पहनने की सूचना दी गई है।