" /> महाराष्ट्र में ‘पूल टेस्टिंग’ तथा ‘प्लाज्मा थेरेपी’ को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री की मान्यता- स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे

महाराष्ट्र में ‘पूल टेस्टिंग’ तथा ‘प्लाज्मा थेरेपी’ को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री की मान्यता- स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे

कोरोना वायरस की जांच के लिए महाराष्ट्र में ‘पूल टेस्टिंग’ तथा ‘प्लाज्मा थेरेपी’ के माध्यम से उपचार करने के प्रस्ताव को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने आज मान्यता दे दी। यह जानकारी राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने दी है।
स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने अधिक जानकारी देते हुए बताया कि कोरोना प्रतिबंध की समीक्षा के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने आज में दोपहर देश के सभी स्वास्थ्य मंत्री एवं सचिवों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बातचीत की। राज्य सरकार की ओर से पूल टेस्टिंग तथा प्लाज्मा थेरेपी पद्धति से उपचार करने की मांग की गई थी, जिसे हरी झंडी दिखाई गई। इस बैठक में महाराष्ट्र की ओर से यह सुझाव भी दिया गया कि ‘पोर्टेबल पल्स ऑक्सीमीटर’ तथा एक्स-रे टेस्टिंग की सहायता से कोरोना के मरीजों का शीघ्र निदान करना संभव होगा तथा इससे मृत्यु दर कम की जा सकती है। साथ ही पर्सनल प्रोटक्शन इक्विपमेंट अर्थात पीपीई किट का कीटाणु शोधन करके उसके पुन: उपयोग संबंधी सुझाव दिया गया था, इसकी भी विशेष सराहना केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से की गई, ऐसा भी टोपे ने बताया। राज्य के निजी मेडिकल महाविद्यालयों में कोरोना की जांच शुरू करने की मांग को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सकारात्मक प्रतिसाद मिलने की जानकारी भी इसी टोपे ने दी।