" /> गंभीर आरोप में मृत्युदंड! महाविकास आघाड़ी का नया कानून! महिलाओं को शक्ति, २१ दिन में फैसला

गंभीर आरोप में मृत्युदंड! महाविकास आघाड़ी का नया कानून! महिलाओं को शक्ति, २१ दिन में फैसला

महिला व बच्चों पर अत्याचार करनेवाले अपराधियों पर नकेल कसने के लिए दिशा कानून की तर्ज पर राज्य में ‘शक्ति कानून’ लाया जाएगा। शक्ति कानून विधेयक को कल राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में मंजूरी दी गई। इसके तहत २१ दिनों के भीतर मामले का पैâसला होगा। इस कानून के तहत बलात्कार, एसिड अटैक और बालकों पर अत्याचार जैसे गंभीर मामलों में मृत्युदंड की सजा का प्रावधान किया गया है।

महिला व बालकों पर होनेवाले अत्याचार पर लगाम लगाने के लिए आंध्रप्रदेश सरकार ने दिशा कानून बनाया है। इस कानून की तर्ज पर महाराष्ट्र में कानून बनाने हेतु दिशा कानून पर अध्ययन करने के लिए गृहमंत्री अनिल देशमुख आंध्र प्रदेश गए थे। आंध्र प्रदेश में दिशा कानून का अध्ययन कर महाराष्ट्र में विधेयक का मसौदा बनाने के लिए नासिक पुलिस अकादमी के संचालक अवस्थी दोरजे की अध्यक्षता में एक समिति गठित की गई थी। इस समिति द्वारा तैयार किए गए दो विधेयक के मसौदे मार्च में मंत्रिमंडल के समक्ष प्रस्तुत किए गए थे। इस प्रस्तावित कानून को विधिमंडल के समक्ष प्रस्तुत करने का निर्णय मंत्रिमंडल की बैठक में लिया गया। इसके अनुसार महाराष्ट्र शक्ति क्रिमिनल लॉ (महाराष्ट्र अमेंडमेंट) एक्ट २०२० और स्पेशल कोर्ट एंड मशीनरी फॉर इंप्लिमेंटेशन ऑफ महाराष्ट्र शक्ति क्रिमिनल लॉ २०२०, ऐसे दो विधेयक आगामी अधिवेशन में पेश किए जाएंगे।