स्पेस क्वीन! एयरोस्पेस कंपनी में दीपिका ने किया निवेश

बॉलीवुड की खूबसूरत अदाकारा दीपिका पादुकोण इन दिनों सफलता के शिखर पर विराजमान हैं। उनके करियर में सब कुछ शानदार चल रहा है। पिछली कई फिल्में लाइन से हिट हुई हैं। कुछ महीने पूर्व प्रेमी रणवीर सिंह के साथ इटली में धूमधाम से अंतरराष्ट्रीय अंदाज में विवाह किया। मॉडलिंग में टीवी पर टॉप क्लास के एड में वे नजर आ ही रही हैं। अब दीपिका ने एक और लंबी छलांग मारी है। यह है अंतरिक्ष (स्पेस) की छलांग। खबर है कि बॉलीवुड की यह क्वीन दीपिका पादुकोण अब जल्द ही स्पेस क्वीन बनने जा रही हैं। स्पेस क्वीन यानी अंतरिक्ष की रानी समझ लीजिए। अब वे सैटेलाइट लांच करने में एक प्रमुख भूमिका निभानेवाली हैं।
बॉलीवुड के कई सितारे अपने एक्टिंग करियर के अलावा दूसरे व्यवसाय में भी निवेश करते हैं। दीपिका ने भी कई व्यवसाय में निवेश किया है। इनमें एक सैटेलाइट कंपनी में उनका निवेश बताता है कि दीपिका स्पेस तकनीक के प्रति कितनी आशान्वित हैं। दीपिका ने जिस कंपनी में निवेश किया है वह बंगलुरू की एक स्टार्टअप कंपनी है, जिसका नाम बैलाट्रिक्स एयरोस्पेस है। इस कंपनी ने हाल ही में बाजार से ३० लाख डॉलर की रकम जुटाई है जिसमें बॉलीवुड क्वीन दीपिका पादुकोण का समावेश है। हालांकि दीपिका ने अभी कितना निवेश किया है, इस बारे में न तो कंपनी और न ही दीपिका ने ही कोई खुलासा किया है। फिर भी माना जा रहा है कि यह एक बड़ी रकम होगी। फोर्ब्स की पिछली लिस्ट के अनुसार गत वर्ष दीपिका पादुकोण महिला हस्तियों में कमाई पर टॉप रहीं। उनकी कुल आमदनी ११२ करोड़ रुपए रही थी। कमाई के मामले में वे अपने पति रणवीर सिंह से भी आगे रहीं, जिनकी कुल आमदनी ८५ करोड़ के करीब रही।
अंतरिक्ष में भी लांच होंगी दीपिका
बॉलीवुड अदाकारा दीपिका पादुकोण फिल्मों के अलावा दूसरे व्यवसाय में भी काफी दिलचस्पी रखती हैं। उन्होंने कुछ महीने पूर्व ही डेयरी प्रॉडक्ट बनानेवाली कंपनी एपिगैमिया में निवेश किया था। अब वे एक कदम और आगे बढ़ गई हैं। उन्होंने अंतरिक्ष से जुड़ी एक कंपनी बैलाट्रिक्स में निवेश किया है। बंगलुरू की यह कंपनी एक स्टार्टअप है और अंतरिक्ष में भेजे जानेवाले सैटेलाइट के कल-पुर्जे में नवीन तकनीक का इस्तेमाल कर उसे और किफायती व सुविधाजनक बनाने पर काम कर रही है। इस कंपनी ने हाल ही में निवेशकों के एक समूह से ३० लाख डॉलर उगाहे, जिनमें दीपिका पादुकोण का नाम भी शामिल है।
दीपिका का बॉलीवुड में करियर काफी शानदार रहा है। उनकी पहली फिल्म शाहरुख खान के साथ ही ‘ओम शांति ओम’ जो सुपरहिट रही थी। इसके बाद भी उन्होंने कई सफल फिल्में दी हैं। रेस २, चेन्नई एक्सप्रेस, गोलियों की रासलीला रामलीला, हैप्पी न्यू ईयर, पीकू, बाजीराव मस्तानी और पद्मावती कुछ ऐसी फिल्में हैं जिन्होंने दीपिका को बॉलीवुड की टॉप अभिनेत्री की कुर्सी पर बैठाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। बॉलीवुड ट्रेड सूत्रों के अनुसार दीपिका इस समय बॉलीवुड की सबसे महंगी अभिनेत्री हैं। एक फिल्म के लिए दीपिका की फीस लगभग १५ करोड़ रुपए है। साल में दीपिका की एक या दो फिल्में ही आ पाती हैं। दीपिका स्टेज शोज और विभिन्न प्रॉडक्ट्स के एंडोर्समेंट से खासी कमाई कर लेती हैं बल्कि फिल्मों से ज्यादा वह मॉडलिंग से कमाती हैं। जानकार बताते हैं कि दीपिका अन्य व्यवसाय में निवेश करने को काफी उत्सुक रहती हैं। वैसे भी उन्हें १३ साल बॉलीवुड में हो चुके हैं। अब उनकी शादी भी हो चुकी है। ऐसे में बतौर हीरोइन उनका करियर अब ज्यादा लंबा चलनेवाला है नहीं। इसलिए वे विभिन्न व्यवसायों में अपना पैसा निवेश कर रही हैं।
एपिगैमिया परिवार का हिस्सा
दीपिका पादुकोण जब डेयरी प्रॉडक्ट बनानेवाली कंपनी से जुड़ने के बाद कहा था कि मैं एपिगैमिया परिवार से जुड़कर रोमांचित हूं। मुझे न केवल उत्पादों से प्यार है, बल्कि ब्रांड के दर्शन से भी बहुत दृढ़ता से जुड़ना है। टीम के विस्तार की बड़ी योजनाएं हैं और मैं नए उत्पादों को शामिल करने और नए शहरों में प्रवेश करने के लिए उत्साहित हूं। इससे समझा जा सकता है कि दीपिका व्यवसाय के प्रति कितनी गंभीर हैं।
जमीन से जुड़ी हस्ती
दीपिका पादुकोण बॉलीवुड का भले ही एक बड़ा नाम हो पर उन्हें करीब से जाननेवाले बताते हैं कि वे जमीन से जुड़ी हस्ती हैं। फिल्मों में जिस तरह से वे आम चरित्र को जीती हैं वैसा ही हाल निजी जीवन में है। हाल ही में वे अपने पिता के साथ जब यात्रा कर रही थीं तो एयरपोर्ट पर एंट्री के वक्त तैनात सीआईएसएफ के जवान ने दीपिका से उनका आई कार्ड मांगा तो दीपिका ने बड़े उत्साह से अपना आई कार्ड दिखाया। कहीं कोई स्टारडम नहीं दिखा। उस जवान को भी पता था कि वे दीपिका पादुकोण हैं। पर ड्यूटी तो ड्यूटी होती है।
अंतरिक्ष में उड़ान
सैटेलाइट कंपनी में निवेश से माना जा रहा है कि दीपिका पादुकोण एक ऐसी निवेशक हैं जो भविष्य की आहट पहचान लेती हैं। बैलाट्रिक्स एयरोस्पेस ऐसी तकनीक पर काम कर रही है जिससे इलेक्ट्रिक रसायनों वाले थ्रस्टर्स की सहायता से सैटेलाइट्स को अंतरिक्ष में भेजे जाएंगे। इससे वायु प्रदूषण तो कम होगा ही साथ ही लागत में भी कमी आएगी। आनेवाला दौर स्पेस तकनीक का ही है। जानकार बताते हैं कि तीन साल में पूरी दुनिया में करीब १७ हजार छोटे सैटेलाइट अंतरिक्ष की कक्षा में भेजे जाने हैं।