तो मेरी रूह कांप गई…! दीपिका पादुकोण

मेघना गुलजार निर्देशित फिल्म ‘छपाक’ १० जनवरी यानी परसों रिलीज हो चुकी है। दीपिका पादुकोण ने इस फिल्म में एसिड अटैक सर्वाइवल लक्ष्मी अग्रवाल का किरदार निभाया है। हालांकि फिल्म में दीपिका के किरदार का नाम मालती रखा गया है। दीपिका से मिलने का जो भी समय मुकर्रर होता या तो वो आगे खिसक जाता या कैंसिल हो जाता। आखिरकार दीपिका से मुलाकात हो ही गई और फिल्म ‘छपाक’ के अलावा अन्य मुद्दों पर उनसे बातचीत हुई। पेश है रणवीर सिंह की होम-मिनिस्टर दीपिका पादुकोण से हुई पूजा सामंत की बातचीत के प्रमुख अंश-
‘कॉकटेल’ से आपकी इमेज बदली है। फिल्म छपाक’ से आपको क्या उम्मीदें हैं?
मैंने १० वर्षों में बहुत ग्रो किया और विभिन्न किरदार निभाए। हर किरदार अलग और नया हो इसका ध्यान रखा मैंने। अगर एक जैसा किरदार निभाऊंगी तो बोर हो जाऊंगी। मैंने हमेशा ही आलोचनाओं को एनालाइज किया। मैं बुरा नहीं मानती आलोचनाओं का।
‘छपाक’ में ऐसा क्या खास है, जो आपने इसके निर्माण और अभिनय में दिलचस्पी दिखाई?
लक्ष्मी अग्रवाल की कहानी हम सभी जानते हैं। दिल्ली की ये युवती अपने फ्रेंड सर्कल के एक दोस्त की शादी का प्रपोजल ठुकरा देती है और ये इंकार वो लड़का सहन नहीं कर पाता और लक्ष्मी पर तेजाब फेंक देता है। तेजाब फेंके जाने की आवाज ‘छपाक’ ने न सिर्फ लक्ष्मी के चेहरे बल्कि उसके मन पर गहरा कुप्रभाव डाला। लक्ष्मी को समाज में कितनी अवहेलना झेलनी पड़ी और वो वैâसे नए सिरे से अपनी जिंदगी की नई शुरुआत करती है। फिल्म की ये संक्षिप्त कहानी है। जब मैंने ये कहानी सुनी तो मेरी रूह कांप गई। लक्ष्मी अग्रवाल की कहानी से प्रेरित होकर ही मैंने इस फिल्म में अभिनय करने के साथ इसके निर्माण में दिलचस्पी दिखाई। इस फिल्म के जरिए हम लोगों को ये मैसेज देना चाहते हैं कि एसिड पीड़िता युवतियों को सहानुभूति और दया नहीं बल्कि उन्हें समाज में इक्वल ट्रीटमेंट चाहिए।
फिल्मों में हीरोइन का ग्लैमरस दिखना जरूरी होता है। क्या एसिड अटैक सर्वाइवर का किरदार निभाना रिस्क नहीं था?
अभिनय का मतलब हमेशा ग्लैमर ही नहीं होता। आज इसके पहलू और मायने बदलते जा रहे हैं। मैं ‘फॉक्स स्टार’ और मेघना गुलजार का शुक्रिया अदा करना चाहती हूं, जो उन्होंने इस साहसिक विषय पर बायोपिक बनाई। ये मेरी खुशकिस्मती थी कि मुझे यह किरदार निभाने का मौका मिला।
क्या फिल्म का निर्माण और अभिनय एक साथ करना मुश्किल नहीं था?
बतौर निर्मात्री ‘छपाक’ मेरी डेब्यू फिल्म है। मैं जब भी वैâमरे के सामने होती ये भूल जाती कि मैं फिल्म की निर्मात्री हूं। मेरे लिए पहली बार निर्मात्री बनना एक नया लर्निंग एक्सपीरियंस था।
फिल्म निर्माण ज्यादा पैसा कमाने की क्षमता भी निर्माण करता है?
जीने के लिए पैसा बहुत जरूरी है लेकिन आज लोगों में अवधारणा बनती जा रही है कि पैसा ही सबकुछ है। मुझे पैसे की अहमियत बचपन से ही सिखाई गई। कॉलेज के दिनों में मैंने मॉडलिंग असाइनमेंट के जरिए पॉकेटमनी कमाना शुरू कर दिया था। आज निर्मात्री बनने के बाद पैसा कहां पर खर्च करना है और कहां पर नहीं, ये समझ में आया।
आपकी प्रेग्नेंसी की खबरें भी सुनने को मिल रही हैं?
मेरी शादी को महज अभी एक साल ही हुआ है। अगर मैं प्रेग्नेंट हूं तब भी दुनिया से ये बात छुपेगी नहीं।
क्या आप कार्तिक आर्यन के साथ कोई फिल्म कर रही हैं?
कार्तिक आर्यन मुझे पसंद है क्योंकि मैं, रणवीर (सिंह) और कार्तिक आर्यन इस इंडस्ट्री में बिना हमारी पैâमिली सपोर्ट के आगे बढ़े हैं। मैं कार्तिक आर्यन के साथ नहीं, बल्कि सिद्धांत चतुर्वेदी के साथ अगली फिल्म कर रही हूं, जिसे शकुन बत्रा निर्देशित कर रहे हैं।
रणवीर (सिंह) के साथ आपकी गृहस्थी वैâसी चल रही है?
मैं खुशनसीब हूं कि मुझे रणवीर जैसा प्यारा पति और उनका उतना ही प्यारा परिवार मिला। मुझे अपने बंगलोर के घर जैसा ही महसूस होता है। मेरे लिए इससे ज्यादा बड़ी खुशी की बात क्या होगी।
जन्मतारीख – ५ जनवरी
जन्मस्थान – कोपनहेगन (डेनमार्क)
कद – ५ फुट ९ इंच
वजन -६२
प्रिय परिधान – वेस्टर्न ड्रेस, ईवनिंग गाउन
मनपसंद व्यंजन – साउथ इंडियन और इटालियन
प्रिय डेजर्ट – मैंगो मूस, कस्टर्ड सूफले
प्रिय कलाकार – रणवीर सिंह, शाहरुख खान
हॉबी – बैडमिंटन खेलना
प्रिय पर्यटन स्थल – इटली, पेरिस, न्यूजीलैंड