" /> मुख्यमंत्री ने दी भावी प्रशासनिक अधिकारियों को सलाह, मिट्टी और मां को मत भूलना!

मुख्यमंत्री ने दी भावी प्रशासनिक अधिकारियों को सलाह, मिट्टी और मां को मत भूलना!

राज्य और देश सर्वोत्तम होना चाहिए

प्रशासकीय सेवा की परीक्षा में उत्तीर्ण हुए महाराष्ट्र के वैभव और कल के भाग्यविधाता उम्मीदवार, भविष्य की जिम्मेदारी की परीक्षा जिद के साथ पास करेंगे। ऐसा विश्वास मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने व्यक्त किया। राज्य, देश या अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काम करते समय मिट्टी और मां को न भूलें। ऐसी बहुमूल्य सलाह प्रशासनिक सेवा में चयन किए गए अधिकारियों को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने दी। केंद्रीय लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा २०१९ में उत्तीर्ण महाराष्ट्र के ७९ उम्मीदवारों को सम्मानित करने का एक समारोह मंगलवार को महाराष्ट्र विधानसभा द्वारा विधान भवन में आयोजित किया गया था। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने उक्त बातें कहीं।
इस अवसर पर विधान परिषद के सभापति रामराजे नाईक निंबालकर, विधानसभा अध्यक्ष नाना पटोले, उपाध्यक्ष नरहरी जीरवाल, उपमुख्यमंत्री अजीत पवार, राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात, विधान परिषद के विरोधी पक्ष नेता प्रवीण दरेकर, विधानसभा विरोधी पक्षनेते देवेंद्र फडणवीस, संसदीय कार्य मंत्री एड. अनिल परब, राज्यमंत्री संजय बनसोडे, विधानमंडल सचिव राजेंद्र भागवत आदि इस मौके पर उपस्थित थे। प्रशासनिक सेवा परीक्षा उत्तीर्ण करनेवाले उम्मीदवारों से बात करते हुए, मुख्यमंत्री ने कहा, ‘अब पंख पैâल गए हैं। अब बड़ी छलांग लेना चाहते हैं। इसलिए, कोई भी जिम्मेदारी निभाते हुए, इस बात पर जोर दें कि मेरा राज्य, देश सकारात्मक परिवर्तन करके सर्वश्रेष्ठ बनना चाहिए। चूंकि सरकार और प्रशासन दो पहिए हैं, इसलिए गलत काम न होने देने के साथ ही अच्छे काम के लिए मजबूती से खड़े रहें। आप लोगों के हाथों से अच्छे काम होंगे। ऐसी शुभकामनाएं मुख्यमंत्री ने दी। राज्य के वर्तमान प्रशासनिक अधिकारी अच्छा काम कर रहे हैं और सरकार सभी के सहयोग से सकारात्मक रूप से काम कर रही है। ऐसा मुख्यमंत्री ने कहा। इस अवसर पर विधान परिषद के सभापति रामराजे निंबालकर, विधान सभा अध्यक्ष नाना पटोले, उपमुख्यमंत्री अजीत पवार, राजस्व मंत्री बालासहेव थोरात, प्रतिपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस आदि ने भी अपने विचार व्यक्त किए।