" /> बॉर्डर पर डबल अटैक!, राजौरी और पैंगोंग में एक-एक जवान शहीद

बॉर्डर पर डबल अटैक!, राजौरी और पैंगोंग में एक-एक जवान शहीद

जम्मू-कश्मीर बॉर्डर पर इन दिनों डबल अटैक देखने को मिल रहा है। एक तरफ पाकिस्तानी सेना ने तो दूसरी तरफ चीनी सेना भारत के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले में नियंत्रण रेखा के पास बुधवार को पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा की गई गोलीबारी में सेना का एक जूनियर कमीशंड अधिकारी (जेसीओ) शहीद हो गया। रक्षा सूत्रों ने इसकी जानकारी दी, वहीं दूसरी तरफ लद्दाख के दक्षिणी पैंगोंग के विवादित इलाके में चीन के साथ झड़प में भारत का एक जवान शहीद हो गया और एक जख्मी हो गया है। यह दावा विदेशी मीडिया ने किया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक यह जवान मूल रूप से तिब्बती था और स्पेशल प्रâंटियर फोर्स (एसएफएफ) में तैनात था। हालांकि इस मामले में सेना का आधिकारिक बयान नहीं आया है। उधर चीन ने भी कोई जानकारी नहीं दी है।
बता दें कि २९-३० अगस्त की रात को चीन के करीब ५०० सैनिकों ने एक पहाड़ी पर कब्जे की कोशिश की थी, जिसे भारतीय सेना ने नाकाम कर दिया। इससे पहले ५ जून को लद्दाख के गलवान में भारतीय और चीनी जवानों के बीच हिंसक झड़प हुई थी। इसमें चीनी सैनिकों ने भारतीय जवानों पर कंटीले तारों से हमला किया था। इसमें २० जवान शहीद हुए थे। चीन के भी करीब ३५ सैनिक मारे गए थे लेकिन उसने अभी तक पुष्टि नहीं की है। २९-३० अगस्त की रात के बाद ३१ अगस्त को भी लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर उकसानेवाली कार्रवाई की। अगले दिन यानी १ सितंबर को फिर खबर आई कि चीन के सैनिकों ने चुनार इलाके में घुसपैठ की कोशिश की लेकिन भारतीय सेना ने फिर खदेड़ दिया। सूत्रों के मुताबिक भारतीय सेना पिछले महीने ही इंटेलिजेंस इनपुट मिल गया था कि चीनी सैनिक पैंगोंग झील के दक्षिण में नया मोर्चा खोलने की तैयारी कर रहे हैं। इस आधार पर भारतीय सेना ने एक हफ्ते की तैयारी की और दक्षिणी छोर पर एलएसी से लगे ठिकानों पर जवान तैनात कर दिए। सेना का यह अनुमान सटीक निकला कि गलवान से लेकर पैंगोंग के उत्तरी छोर और देपसांग में ५ महीने से चीन जो चाल चल रहा है, वही अब दक्षिणी छोर पर दोहराने की तैयारी है। २९-३० जनवरी की रात जब चीन के ५०० सैनिक घुसपैठ करने पहुंचे तो भारतीय जवानों को देखकर उनके होश उड़ गए। रक्षा सूत्रों ने बताया कि कल पाकिस्तान ने केरी सेक्टर में अग्रिम चौकी पर गोलीबारी कर संघर्षविराम समझौते का उल्लंघन किया। भारतीय सेना ने इसका माकूल जवाब दिया। सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तानी गोलीबारी में एक जेसीओ गंभीर रूप से घायल हो गया था, जिसने बाद में दम तोड़ दिया। जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तान के कर्मी भी हताहत हुए हैं लेकिन इसकी सटीक जानकारी अभी नहीं मिल पाई है।

निर्वासित तिब्बती संसद के सदस्य ने यह दावा किया 
तिब्बती संसद की निर्वासित सदस्य नामग्याल डोलकर लघियारी ने मंगलवार को बताया कि शनिवार रात को संघर्ष के दौरान तिब्बती मूल का सैनिक शहीद हो गया था। उन्होंने एक जवान के जख्मी होने की बात भी कही।

चीन की सीनाजोरी
बीजिंग। पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर जहां एक तरफ चीन पीछे हटने को तैयार नहीं है और घुसपैठ की नाकाम कोशिश कर रहा है, दूसरी तरफ उल्टे वह भारत के ऊपर ही आरोप मढ़ रहा है। चीन के विदेश मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि भारतीय सेना की तरफ से बयान देकर यह स्वीकार करना कि उन्होंने चीनी सेना की गतिविधियों से पहले कार्रवाई की, यह साबित करता है कि उसने उकसावेपूर्ण कार्रवाई कर सीमा पार किया। इसके साथ ही बीजिंग ने उल्टा पहले एकतरफा वस्तुस्थिति को बदलने और दोनों देशों की बीच बनी महत्वपूर्ण सहमति के उल्लंघन का भी आरोप लगा दिया।