" /> दमन पर उतारू ड्रैगन

दमन पर उतारू ड्रैगन

♦ व्हॉट्सऐप और जीमेल इस्तेमाल करने पर
♦ मुस्लिम महिलाओं को हिरासत में ले रहा चीन

उईगर मुस्लिमों के खिलाफ चीन ने दमन तेज कर दिया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक चीन के सैनिक और पुलिस उन मुस्लिम महिलाओं को हिरासत में ले रहे हैं जो व्हॉट्सऐप या जीमेल का इस्तेमाल कर रही हैं। चीन की सरकार इन्हें ‘प्री-क्रिमिनल्स’ बता रही है यानी वे लोग जो भविष्य में गंभीर अपराध कर सकते हैं। इसे साइबर क्राइम भी बताया जा रहा है। चीन की इन हरकतों का खुलासा एक नई किताब में किया गया है।
एक स्टूडेंट ने किया है खुलासा
इस किताब के बारे में एक रिपोर्ट पब्लिश की है। वैसे तो चीन में व्हॉट्सऐप और जीमेल का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता, क्योंकि यहां सरकारी नेटवर्क और मीडिया प्लेटफॉर्म हैं लेकिन कुछ लोग वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क के जरिए इनका इस्तेमाल कर लेते हैं। वॉशिंगटन में रहने वाली एक चीनी छात्रा शिनजियांग गई थी। वहां उसने व्हॉट्सऐप और जीमेल का इस्तेमाल किया था। बाद में चीन की पुलिस ने उसे गिरफ्तार करके जेल में डाल दिया। वेरा झोऊ स्टूडेंट के मुताबिक २०१८ न्यू ईयर के दौरान भी वह जेल में थी।
६ महीने बाद किया गया रिहा
झोऊ को ६ महीने जेल में रहना पड़ा और बाद में उसे इस शर्त पर रिहा किया गया कि वह नियमों का पालन करेगी और रोज स्थानीय प्रशासन के पास हाजिरी दर्ज कराएगी। चीन में उईगर और हुई मुस्लिम समुदाय हैं। इन पर चीनी सरकार पैनी नजर रखती है। करीब १० लाख चीनी मुस्लिम हिरासत में हैं और उनके टॉर्चर की कहानियां कई बार दुनिया के सामने आ चुकी हैं। झोऊ के मुताबिक उसके साथ ११ और मुस्लिम महिलाओं को हिरासत में लिया गया था। चीन सरकार ने २०१७ में प्री-क्रिमिनल्स कानून बनाया था। इसके आधार पर हजारों लोगों को हिरासत में ले लिया जाता है।
लोगों की हाईटेक मॉनिटरिंग का आरोप
रिपोर्ट के मुताबिक चीन में ज्यादातर लोगों की हाईटेक मॉनिटरिंग की जाती है ताकि वे सरकार के खिलाफ किसी तरह की ऑनलाइन एक्टिविटी में हिस्सा न ले सकें। जिन लोगों पर जरा भी शक होता है उन्हें प्री-क्रिमिनल्स कानून के तहत हिरासत में लिया जाता है और टॉर्चर किया जाता है।

अरुणाचल पर फिर तकरार उपराष्ट्रपति के दौरे से तिलमिलाया चीन
पूर्वी लद्दाख में सीमा पर तनाव के बीच उपराष्ट्रपति एम. वेंवैâया नायडू के अरुणाचल प्रदेश के दौरे को लेकर बुधवार को हिंदुस्थान और चीन के बीच जमकर तकरार हुई। चीन ने इस दौरे का कड़ा विरोध किया, जिसे नई दिल्ली ने स्पष्ट रूप से खारिज कर दिया। जानकारी के अनुसार उपराष्ट्रपति नायडू पिछले हफ्ते पूर्वोत्तर हिंदुस्थान के दौरे के दौरान अरुणाचल पहुंचे थे। इस दौरे पर चीन तिलमिलाया है।