ड्रोन की उड़ान रोकेगी दिल का दौरा

सीमा पर निगरानी के लिए और इवेंट्स व शादियों में वीडियो शूटिंग के लिए उड़ान भरनेवाला ड्रोन अब हृदय रोगियों में दिल का दौरा रोकने का कार्य भी करेगा। आप सोच रहे होंगे की ड्रोन कोई डॉक्टर है जो दिल का दौरा रोकेगा। हृदय रोगियों के बेचैन दिल को समय पर दवाइयों की जरूरत होती है। ऐसे में अब मरीज के घर या गांव के किसी अस्पताल में भर्ती मरीज तक अति आवश्यक दवाइयां ड्रोन के जरिए पहुंचना मुमकिन होगा क्योंकि नागर विमानन महानिदेशालय ने ड्रोन की उड़ान के लिए अनुमति देनी शुरू कर दी है।
बता दें कि बंगलुरु की कंपनी स्काईलार्क ड्रोंस को विमानन नियामक नागरिक डीजीसीए के नो परमिशन नो ऑफटेक (एनपीएनटी) मानदंडों के अनुपालन के लिए ड्रोन सेवा शुरू करने की अनुमति प्रदान की गई है। इसे ड्रोन के जरिए खाद्य पदार्थों एवं ऑनलाइन खरीददारी की आपूर्ति करने की ओर उठाया गया एक महत्वपूर्ण कदम माना जा रहा है। इस ड्रोन को उड़ाने की अनुमति के लिए डीजीसीए ने एक ऑनलाइन आईटी प्लेटफॉर्म तैयार किया है जिसे डिजिटल स्काई नाम दिया गया है। ड्रोन की सर्विस मुहैया करानेवालों की मानें तो पहले ड्रोन के परिचालन के लिए कई विभागों की अनुमति लगती थी। अब वन विंडो सिस्टम यानी ‘डिजिटल स्काई’ पर आवेदन करने और सभी अनुमति मिलने से अब काफी कुछ आसान हो गया है। ब्लूडस्ट्रीम के संस्थापक व एमआईटी मणिपाल से एयरोस्पेस के छात्र रह चुके अंशुल शर्मा ने बताया कि ड्रोन की उड़ान के लिए अनुमति बहुत अच्छी बात हैं। पहले काफी अड़चनें होती थीं लेकिन अब सब कुछ ठीक रहा तो जल्द ही ड्रोन के जरिए ग्रामीण क्षेत्रों में मरीजों के लिए रक्त, दवाइयां आदि चीजें डिलिवरी की जा सकती हैं। इतना ही नहीं आनेवाले दिनों में खाद्य पदार्थ व अन्य वस्तुओं की भी डिलिवरी की जाएगी।