" /> पानी के भीतर बजेगा ड्रोन का डंका, आ रहा है अमेरिका का घातक हथियार

पानी के भीतर बजेगा ड्रोन का डंका, आ रहा है अमेरिका का घातक हथियार

अभी तक न्यूक्लियर पनडुब्बी समुद्र के अंदर सबसे शक्तिशाली हथियार माना जाता है, लेकिन अमेरिका अपनी बादशाहत को कायम रखने के लिए कुछ और ही तैयारी कर रहा है। इन दिनों अमेरिका की प्रमुख हथियार निर्माता कंपनी बोइंग एक ऐसे ड्रोन पनडुब्बी का ट्रायल कर रही है जो सैकड़ों किलोमीटर दूर स्थित दुश्मनों के जहाजों और पनडुब्बियों को पल भर में डुबा सकती है। इस ड्रोन पनडुब्बी से युद्ध के दौरान नौसैनिकों की जिंदगियां जोखिम में नहीं होंगी। अब पानी के भीतर इन ड्रोन पनडुब्बियों का डंका बजेगा।

नौसैनिक अब सुरक्षित दूरी से इस ड्रोन पनडुब्बी को ऑपरेट कर दुश्मनों के खिलाफ घातक कार्रवाई को अंजाम दे सकते हैं। अमेरिकी नेवी ने तो १३ फरवरी, २०१९ को इन ड्रोन पनडुब्बियों को बनाने के लिए बोइंग के साथ ४३ मिलियन डॉलर का करार किया है। इस डील के तहत बोइंग चार ओर्का एक्स्ट्रा लार्ज अनमैन्ड अंडरस व्हीकल पनडुब्बियों का निर्माण करेगी। ये ड्रोन पनडुब्बियां एक बार में ६,५०० नॉटिकल मील की दूरी तय करने में सक्षम हैं। ओर्का क्लास की ये पनडुब्बियां माइन काउंटरमेशर, एंटी-सबमरीन वारफेयर, एंटी-सरफेस वारफेयर, इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर और स्ट्राइक मिशन को अंजाम देने में सक्षम हैं। अमेरिकी नौसेना के लिए इन ड्रोन पनडुब्बियों को गेम चेंजर माना जा रहा है। ओर्का क्लास की एक पनडुब्बी अपने मिशन डिप्लॉयमेंट के दौरान ४६ लाइटवेट तारपीडो को लेकर जा सकती है। इसके अलावा ये पनडुब्बी ४८ हैवीवेट तारपीडो को भी ले जा सकती है। इन तारपीडो की मदद से समुद्र की सतह पर मौजूद दुश्मन के किसी भी युद्धपोत को आसानी से नष्ट किया जा सकता है। इसमें एंटी शिप मिसाइलों को भी तैनात किया जा सकता है। यह पनडुब्बी समुद्र में माइन को भी बिछा सकती है। अमेरिकी नौसेना में इन ओर्का क्लास की पनडुब्बियों की तैनाती के बाद से न केवल उसकी मारक ताकत बढ़ जाएगी, बल्कि ये आसानी से डिटेक्ट भी नहीं की जा सकेंगी। इन पनडुब्बियों की तैनाती से अमेरिकी नौसैनिकों को जान का खतरा कम होगा और वे सुरक्षित दूरी से इसे ऑपरेट भी कर पाएंगे।