" /> यूपी में बदमाश बेखौफ!

यूपी में बदमाश बेखौफ!

सामना संवाददाता / लखनऊ
यूपी में इन दिनों बदमाश बेखौफ है। सीएम योगी आदित्यनाथ के गृह जिले गोरखपुर में युवक का अपहरण करने के बाद बिहार में गला काटकार लाश फेंकने का मामला सामने आया है तो वहीं दूसरी तरफ मेरठ में दिनदहाड़े दुकान में घुसकर ज्वेलर्स की गोली मारकर हत्या कर दी गई। तीसरी घटना बागपत से है। बदमाशों की गोली लगने से घायल सिपाही मनीष की मंगलवार को मेरठ के एक निजी हॉस्पिटल में इलाज के दौरान मृत्यु हो गई। वहीं पुलिस घटना के १७ घंटे बाद भी बदमाशों को गिरफ्तार करना तो दूर उनका सुराग भी नहीं लगा पाई है।
गोरखपुर के रामगढ़ताल थाना क्षेत्र से एक महीने पहले बोलेरो सवार बदमाशों ने ३५ वर्षीय सर्वेश सिंह उर्फ राज सिंह का घर से असलहे की नोंक पर अपहरण कर लिया था। बिहार के गया में उसकी सिर कटी लाश पुलिस को मिली है। गया के बेलागंज थाने की पुलिस ने गोरखपुर आकर लाश की शिनाख्‍त कराई त‍ब इस मामले का खुलासा हुआ। इस पूरे मामले में गोरखपुर पुलिस की जबरदस्‍त लापरवाही सामने आई है। सर्वेश की मां का आरोप है कि वह चौकी से लेकर थाने तक अपने बेटे के अपहरण की वारदात दर्ज कराने के लिए भटकती रहीं लेकिन पुलिस ने उनकी नहीं सुनी। थाने पर उनके साथ बदसलूकी भी की गई। सर्वेश सिंह के बारे में पता चला है कि वह बिहार के सुल्‍तानगंज में हत्‍या के एक मामले में आरोपी था। इन दिनों जमानत पर बाहर था। लॉकडाउन के पहले से वह घर पर रह रहा था। गया के बेलागंज एसएचओ अभिनाश कुमार ने सर्वेश के घर पहुंचकर शव के फोटो और कपड़े से उसकी शिनाख्‍त कराई। बेलागंज एसएचओ ने बताया कि उनके थाना क्षेत्र में एनएच-३ के पहले रिसौध नहर के पास धान के खेत में एक अज्ञात युवक का शव १० अगस्त मिला था। शव बोरे में कसा था। गर्दन अलग और धड़ अलग था। एक आरसी पेपर के सहारे वह सोमवार को गोरखपुर पहुंचे। उन्‍हें एक गाड़ी का पता करना था। बाद में पता चला कि गाड़ी का नंबर फर्जी था। जांच के दौरान ही एसओ को सर्वेश के घर का पता मिला। वहां पहुंचे तो सर्वेश के अपहरण की बात सामने आई। जिसकी बाद में हत्‍या कर लाश बिहार के गया में फेंक दी गई। गौरतलब है कि मूल रूप से बेलघाट इलाके के पिपरसण्डी गांव रहनेवाली किशोरी देवी ने रामगढ़ताल पुलिस को तहरीर देकर बताया था कि वह अपने फौजी पति और परिवार के अन्य सदस्यों के साथ रामगढ़ताल इलाके के फुलवरिया में रहती हैं। छह अगस्त की दोपहर दो से तीन बजे के बीच घर से ही उनके बेटे सर्वेश सिंह उर्फ राज सिंह को मैरून रंग की बोलेरो पर सवार तीन लोग असलहा दिखाकर उठा ले गए। उन्‍होंने दरवाजा खुलवाया और बेटे को बाहर बुलवाया। बेटे के बाहर आते ही उन्होंने ९३३५५७८३५३ बताकर पूछा कि क्या यह उसका नंबर है? बेटे के हां कहते ही उन्‍होंने उसे पीटना शुरू कर दिया। तमंचा सटाकर उसे जबरन बोलेरो में बैठाकर लेकर कहीं चले गए। वह थाने गई जहां उसके साथ पुलिसकर्मियों ने बदसलूकी की। इसके पहले महिला ने स्थानीय चौकी प्रभारी को भी तहरीर दी थी। महिला ने बताया कि उसके बेटे के खिलाफ सुल्तानपुर जिले के कादीपुर कोतवाली में पूर्व में एक हत्या का केस दर्ज था। वह इन दिनों जमानत पर बाहर था। लॉकडाउन के पहले से वह घर पर ही रह रहा था। रामगढ़ताल प्रभारी सत्य सान्याल शर्मा ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है।

दुकान में घुसकर ज्वेलर्स की हत्या
मेरठ। यूपी के मेरठ जिले में दिनदहाड़े बड़ी वारदात हो गई। यहां बेखौफ बदमाश एक ज्वैलर्स की दुकान में घुस गए और लूटपाट करने लगे। विरोध करने पर ज्वेलर्स की गोली मार कर हत्या कर दी। इसके बाद १० लाख वैâश और ५ किलो चांदी लूट ले गए।  मेरठ के मेडिकल थाना क्षेत्र के जागृति विहार सेक्टर २ में अमन जैन की भागमल ज्वेलर्स नाम से ज्वेलरी शोरूम है। इसी शोरूम पर दोपहर करीब १ बजे नकाबपोश बदमाशों ने धावा बोल दिया। लूट के दौरान बदमाशों ने ज्वेलरी कारोबारी अमन जैन की गोली मारकर हत्या कर दी। दो बाइकों पर सवार होकर आए बदमाशों ने वारदात को अंजाम दिया। लूटपाट का विरोध करने पर अमन को गोली मार दी और ज्वैलरी लूटकर बदमाश फरार हो गए। घायल अमन को अस्पताल लाया गया जहां उनकी उपचार के दौरान मौत हो गई। बदमाशों का कोई सुराग अभी तक पुलिस नहीं लगा पाई है। परिजनों ने बताया कि करीब १० लाख रुपए कैश और ५ किलो चांदी लूटकर बदमाश फरार हुए हैं।

बदमाशों की गोली से घायल सिपाही की मौत
बागपत। उत्तर प्रदेश के बागपत जिले में बदमाशों की गोली लगने से घायल सिपाही मनीष की मंगलवार को मेरठ के एक निजी हॉस्पिटल में इलाज के दौरान मृत्यु हो गई। वहीं पुलिस घटना के १७ घंटे बाद भी बदमाशों को गिरफ्तार करना तो दूर उनका सुराग भी नहीं लगा पाई है। पुलिस सूत्रों ने मंगलवार को बताया कि मेरठ के जानी इलाके के ग्राम डालूहेड़ा निवासी मनीष दिल्ली ट्रैफिक पुलिस में कांस्टेबल के पद पर तैनात थे। वे रविवार शाम करीब चार बजे दिल्ली से बाइक पर सवार होकर घर लौट रहे थे। ग्राम रोशनगढ़ के गेट के निकट पहुंचने पर बुलेट व अपाचे मोटरसाइकिल सवार चार बदमाशों ने मारपीट करते हुए कांस्टेबल मनीष को पिस्टल से गोली मार दी थी। वे गंभीर रूप से घायल हो गए थे।