" /> २७ गांवों का संपर्क टूटा,  वसई में बाढ़ ने किया बेहाल  संपर्क पुल टूटा

२७ गांवों का संपर्क टूटा,  वसई में बाढ़ ने किया बेहाल  संपर्क पुल टूटा

मूसलाधार बारिश से वसई तालुका के सभी नदी-नाले उफान पर हैं। क्षेत्र में बाढ़ प्रभावित इलाकों का शासन-प्रशासन लगातार जायजा ले रहा है। साथ ही लोगों को बाढ़ प्रभावित नदी-नालों को पार न करने और इन जगहों से दूर रहने की हिदायत भी दी जा रही है। वसई के मुख्य सड़क से करीब २७ गांवों का संपर्क फिलहाल टूट गया है ।
बता दें कि वसई तालुका में पिछले दो दिनों से हो रही मूसलाधार बारिश से तानसा नदी उफान पर है। नदी का पानी मुख्य सड़क के ऊपर से बह रहा है, जिसके कारण मेढे गांव, भिनार गांव, अंबोर गांव, कॉलमोर गांव, गोगात पाडा, पल्ली पाडा, अरना गांव, चालीस गांव, खैरीगांव, लेंडी गांव, डोंगरी गांव, भाताने गांव, उसगांव समेत इलाके के तकरीबन २७ गांव का संपर्क टूट गया है।

गांव के रहनेवाले आदेश तरे ने बताया कि पिछले दो दिनों से मूसलाधार बरसात हो रही है। बरसात के कारण तानसा नदी भर गई, जिस कारण पुल के तीन फुट ऊपर से पानी बह रहा है। पिछले दो दिन से गांव का संपर्क टूट गया है। वहीं नीलेश जाधव ने बताया कि इस पुल से तकरीबन २७ गांव और ३५ पाडा के १५ हजार लोग इस पुल से आवाजाही करते हैं, लेकिन पुल के ऊपर से बहते पानी के कारण गांव के लोगों का जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। नदी के किनारे कई घर डूब गए। हालांकि कोई जनहानि नहीं हुई है। वसई तहसील के सर्कल अधिकारी सुशांत ठाकरे ने बताया कि दो दिन की मूसलाधार बरसात से तानसा नदी उफान पर है, जिस कारण कई गांवों से संपर्क टूट गया। शासन-प्रशासन बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में राहत कार्यक्रम के लिए हर तरह से तैयार हैं। बाढ़ प्रभावित इलाके का जायजा लेने एनडीआरएफ की टीम पालघर आई है।