" /> जहां शिवसेना शाखा, वहां मिलेगा भोजन : जरूरतमंदों के लिए शिवसेना विधायक सरनाईक का अनोखा उपक्रम

जहां शिवसेना शाखा, वहां मिलेगा भोजन : जरूरतमंदों के लिए शिवसेना विधायक सरनाईक का अनोखा उपक्रम

३० हजार नागरिकों को प्रतिदिन मिलेगा भोजन
कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने व उस पर नियंत्रण लाने के लिए संपूर्ण देश के साथ-साथ महाराष्ट्र राज्य में भी ‘लॉकडाऊन’ शुरू है। इस लॉकडाऊन का सर्वाधिक असर रोज कमाकर रोज खानेवाले गरीब, श्रमिक व मजदूर वर्ग पर पड़ा है। ऐसी परिस्थिति में ओवला-माजीवाडा विधानसभा क्षेत्र व मीरा-भाइंदर में कोई भूखा न रहे इसके लिए शिवसेना विधायक प्रताप सरनाईक व कई सामाजिक संस्थाएं लॉकडाऊन के प्रथम दिन से ही प्रयत्नशील हैं।
१४ अप्रैल तक के २१ दिन का लॉकडाउन पूरा हो जाने के बाद इसे पुनः ३० अप्रैल तक के लिए बढ़ा दिया गया है। ऐसे में लॉकडाउन के दूसरे चरण में भी किसी गरीब श्रमिक, मजदूर या जरूरतमंद को भूखा नहीं रहना पड़े। इसके लिए सरनाईक ने १५ अप्रैल बुधवार से ‘जहां शाखा-वहां भोजन’ का एक नया उपक्रम शुरू किया है। शहर में जहां-जहां भी शिवसेना की शाखा है। वहां-वहां आज से ३० अप्रैल तक जरूरतमंदों में भोजन वितरित किए जाएंगे, जिसमें प्रतिदिन ३० हजार लोगों को भोजन उपलब्ध कराने का संकल्प लिया गया है, ऐसी जानकारी सरनाईक ने दी है।
जहां शाखा वहां भोजन उपक्रम के तहत १५ अप्रैल से ३० अप्रैल तक दोपहर को १२ से २ बजे के बीच भोजन वितरित किये जायेंगे। जरूरतमंद लोगों से आवाहन किया गया है कि वे अपने नाम पास के शिवसेना शाखा, शिवसेना पदाधिकारी, नगरसेवक या कार्यकर्ताओं के पास अपने नाम दर्ज कराएं, जिससे संबंधित शाखाओं में उतने लोगों के लिए समुचित भोजन की व्यवस्था की जा सके। सरनाईक ने बताया कि इस उपक्रम के अंतर्गत प्रतिदिन ३० हजार लोगों को भोजन देने का संकल्प लिया गया है। सप्ताह में प्रतिदिन अलग-अलग प्रकार के व्यंजन जैसे कभी पूरी, भाजी, कभी मसाला भात, कभी पुलाव तो कभी खिचड़ी दी जाएगी।

◆ धैर्य बनाएं रखें, अफवाहों पर ध्यान न दें -विक्रम प्रताप सिंह


मंगलवार को बांद्रा, ठाणे, पालघर आदि रेलवे स्टेशनों पर बड़ी संख्या में पहुंचे प्रवासी मजदूरों के संबंध में शिवसेना नगरसेवक विक्रमप्रताप सिंह ने सभी से धैर्य बनाएं रखने व अफवाहों पर ध्यान न देने की अपील की है। प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए सिंह ने कहा कि विश्व आपदा की घड़ी में कोरोना नामक वायरस से लड़ाई सिर्फ किसी देश या राज्य की नहीं रह गई है। यह प्रत्येक इंसान की लड़ाई बन गई है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में राज्य सरकार, महानगरपालिकाएं, नगरपालिकाएं, स्वयं सेवी संस्थाएं मिलकर गरीब मजदूरों, श्रमिकों के सुविधा के लिए सतत प्रयत्नशील है। कुछ अराजकतत्व अफवाह फैलाकर गंदी राजनीति करने की कोशिश कर रहे हैं, सरकार उन्हें नहीं बख्शेगी।