" /> लॉकडाउन में लोगो के साथ हो रहा धोखा!

लॉकडाउन में लोगो के साथ हो रहा धोखा!

बुजुर्गों-महिलाओं को ठग बना रहे हैं निशाना

लॉकडाउन में कई जगहों पर धोखाधड़ी की घटनाएं सामने आई हैं। ठग ठगी करने के नए-नए तरीके ईजाद कर लोगों को धोखा देकर खुद को मालामाल करने में लगे हुए हैं। कभी वो खुद को पुलिसवाला बता रहे हैं तो कभी समाजसेवक, उन पर भरोसा कर लोग ठगी का शिकार हो रहे हैं। चेंबूर, अंधेरी, कांदिवली एवं गांवदेवी में ठगी करने की कई घटनाएं सामने आई हैं। ठग ज्वेलरी, पैसे एवं अन्य कीमती सामान लेकर फरार हो जा रहे हैं।
मानखुर्द स्थित लल्लूभाई कंपाउंड में रहनेवाली 54 वर्षीय महिला सायन ट्रॉम्बे सड़क के फुटपाथ पर अखबार का स्टॉल लगाती है। अखबार खरीदने के लिए 2 व्यक्ति उस महिला के स्टॉल पर आए। दोनों ने एक अखबार खरीदा और महिला को 100 रुपए का नोट थमाया। इसके बाद दोनों में से एक व्यक्ति ने पीली थैली निकाली, जिसमें अगरबत्ती, नारियल और 2 हजार रुपए थे। उन्होंने महिला से कहा कि अपना मंगलसूत्र इस थैली को स्पर्श कराकर किसी को दान कर दे। इसी समय दोनों ने बहुत चालाकी के साथ मंगलसूत्र अपने पास रख लिया और महिला को थैली पकड़ाकर रफूचक्कर हो गए। जब उसने थैली खोला तो उसमें एक अगरबत्ती पाउडर, एक बिस्कुट पाउडर और एक सफेद कागज में लिपटा पत्थर मिला लेकिन कोई मंगलसूत्र नहीं मिला। महिला को ठग लिए जाने का एहसास हुआ तो उसने चेंबूर पुलिस स्टेशन में अपनी शिकायत दर्ज कराई। आर्थर रोड जेल के पीछे रहनेवाले भानजी मकवाना पेडर रोड में फिल्म लाइन में कार्यरत हैं। वे घर पर रहते थे क्योंकि लॉकडाउन होने के कारण ऑफिस बंद था। वे घर से बैंक जाने के लिए निकले जहां उन्हें पासबुक लेना था। पासबुक लेकर घर लौटते समय एक आदमी उनके पास पहुंचा। उसने कहा कि मैं तुम्हारे दोस्त का दोस्त हूं, क्या तुम मुझे नहीं जानते? मकवाना याद करने की कोशिश करने लगे, तभी उस आदमी ने पहले मकवाना के चश्मे को हटाया और फिर उनके गले में से सोने की चेन को निकाल लिया। उसने चश्मे के बक्से में चेन डालने का नाटक किया और डिब्बा देकर फरार हो गया। मकवाना को शुरू में पता नहीं था कि वास्तव में क्या हुआ है। उसने बॉक्स खोला और देखा कि उसमें कोई चेन नहीं थी। मकवाना ने उस आदमी के खिलाफ गांवदेवी पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज कराया।
दीनानाथ शुक्ला एक कंपनी में बतौर प्रोडक्शन मैनेजर तैनात हैं। लॉकडाउन में कुछ छूट मिलने के बाद वह ऑफिस जा रहे थे, तभी एक आदमी ऑटोरिक्शा से बाहर आया और खुद को पुलिसवाला बताते हुए कहा कि तुम्हारे पास बाहर घूमने के लिए इजाजत है? हमारे अधिकारी सादे कपड़ों में हर जगह तैनात है। उस आदमी ने दीनानाथ के सभी आभूषण उतारकर एक कागज में बांधने के लिए कहा। इसके बाद वह आभूषण लेकर फरार हो गया। कांदिवली में रहनेवाले हर्षद मोदी को तीन फर्जी पुलिसकर्मियों ने लूट लिया। हर्षद के पास सभी तरह के आभूषण लेकर वे तीनों फरार हो गए। उन्होंने कांदिवली पुलिस में इसकी शिकायत की है।