" /> मेनका की कर्मस्थली में नहीं रुक रही गोकशी !

मेनका की कर्मस्थली में नहीं रुक रही गोकशी !

• वैदहा की सूखी नहर में ११ गायों के कटे सिर के बाद अब कार में ठूंसे मिले गाय के ३ बछड़े

यूं तो गांधी परिवार की छोटी बहू मेनका गांधी अपने जीवजंतु व पर्यावरण प्रेम के लिए देश-दुनिया में मशहूर हैं। वे लोगों को इस संदर्भ में जागरूक भी करती रहती हैं पर उनके अपने संसदीय क्षेत्र यूपी के सुल्तानपुर में ही गोवध व पशु क्रूरता पर लगाम नहीं लग पा रही है। गोकशी के लिए कुख्यात गांवों में लॉकडाउन के बावजूद धड़ल्ले से गोवंश की तस्करी व वध हो रहे हैं। जागरूक जनता प्रशासन व पुलिस के समक्ष आवाज भी उठा रही लेकिन लगाम नहीं लग पा रही है।

पूर्वी यूपी में अयोध्या मंडल का महत्वपूर्ण जिला है सुल्तानपुर । यहां से पूर्व केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी भाजपा सांसद हैं। बावजूद जिले में गोसाईंगंज, कोतवाली देहात , कुड़वार, बल्दीराय, लंभुआ, धंमौर व जयसिंहपुर थानों के तियरी, ज्ञानीपुर, फरीदीपुर, मुरैनी, फिरोजपुर जैसे दर्जनों मुस्लिमबहुल गांव गोवध व गोतस्करी के लिए कुख्यात हैं। पुलिस यहां गोकशी रोक नहीं पा रही। ईद के दिन वैदहा गांव में ११गोवंशों के कटे सिर सूखी पड़ी नहर में मिलने का मामला नया ही है। अभी इस मामले में सभी आरोपियों को पुलिस पकड़ भी न सकी थी कि तियरी गांव में गोकशी होते मिली। अब शुक्रवार को गोसाईंगंज के ही डोमापारा गांव में तीन कसाई छोटी मारुति कार में गाय के तीन बछड़ों को निर्मम तरीके से बांध और ठूंसकर ले जाते ग्रामीणों ने पकड़ा। इस दौरान दो तस्कर तो मौके से भाग निकले लेकिन एक को ग्रामीणों ने पकड़कर पुलिस को सौंप दिया। पुलिस उपाधीक्षक दलबीर सिंह ने बताया कि पकड़ा गया कसाई फरीदीपुर गांव निवासी दिलशाद है। दो अन्य की तलाश में पुलिस टीम लगाई गई है।