" /> खुशखबर!… काबू में कोविड!… मरीज की कमी से बंद होने लगे हैं केयर सेंटर

खुशखबर!… काबू में कोविड!… मरीज की कमी से बंद होने लगे हैं केयर सेंटर

दुनिया का सबसे खतरनाक वायरस कोरोना अब काबू में आने लगा है। इसका परिणाम है कि कोरोना के लिए बनाए गए स्पेशल कोविड सेंटर में मरीजों की संख्या में लगातार कमी होने लगी है। हालात ऐसे हो गए हैं कि अब सरकार द्वारा खोले गए कई कोविड सेंटर बंद करने पड़े हैं। पेश है भिवंडी व मीरा-भायंदर की रिपोर्ट :-

मीरा-भायंदर में कोरोना कम!, एक क्वॉरंटीन सेंटर व एक केयर सेंटर बंद

कोरोना का अंत करने के लिए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के निर्देश पर शुरू की गई ‘मेरा परिवार-मेरी जिम्मेदारी’ मुहिम का व्यापक असर हुआ है। मीरा-भायंदर में धीरे-धीरे कोरोना खत्म होने के साथ यहां की हालत में सुधार आ रहा है। कोरोना पीड़ितों की संख्या में लक्षणीय कमी आने के बाद मनपा प्रशासन ने एक क्वॉरंटीन सेंटर व एक कोविड केयर सेंटर को बंद कर दिया है। प्रशासन का कहना है कि वर्तमान में ये दोनों सेंटर बंद किए गए हैं, लेकिन भविष्य में कोरोना पीड़ितों की संख्या में वृद्धि हुई तो ये दोनों सेंटर पुन: शुरू किए जाएंगे।
मनपा प्रशासन द्वारा प्राथमिक आरोग्य केंद्रों के साथ-साथ, मनपा मुख्यालय व सभी महत्वपूर्ण स्थानों पर ‘मेरा परिवार मेरी जिम्मेदारी’ के तहत रैपिड एंटीजेन टेस्ट मुहिम शुरू की थी। इससे २ अक्टूबर के बाद कोरोना मरीजों की संख्या कम होनी शुरू हो गई। कोरोना मरीजों की सैकड़ों की संख्या दहाई पर आ गई। वर्तमान में पूरे शहर में कोरोना का इलाज करा रहे मरीजों की संख्या करीब १,१०० है। कोरोना को मात देने व इस पर नियंत्रण लाने व शीघ्र उपचार के लिए मीरा-भायंदर मनपा प्रशासन ने कोविड अस्पताल सहित कोविड हेल्थ सेंटर, केयर सेंटर, क्वॉरंटीन सेंटर की व्यवस्था की थी। कोरोना के उपचार में प्रभावी रेमिडिसवीर इंजेक्शन की भी उचित मात्रा में स्टॉक कर रखा था। यह इंजेक्शन मनपा के उपचार केंद्रों पर मुफ्त में उपलब्ध कराई गई थी। वहीं निजी अस्पतालों को इंजेक्शन के बदले पुन: इंजेक्शन वापस देने की शर्त पर उपलब्ध कराई थी। इन सब व्यवस्थाओं की वजह से कोरोना पीड़ितों की संख्या दिनों-दिन कम होती गई। इससे भायंदर के गोल्डन नेस्ट स्थित क्वॉरंटीन सेंटर व मीरा रोड के पेंकर पाड़ा स्थित कोविड केयर सेंटर को मनपा प्रशासन ने बंद कर दिया है।

भिवंडी का सुधरा हाल!… ३१ कोविड सेंटर हुए बंद  नहीं मिल रहे थे मरीज
कोरोना के हॉटस्पॉट बने भिवंडी से अब कोरोना का सफाया होने लगा है। राज्य सरकार के निर्देश व मनपा प्रशासन की सक्रियता से कोरोना मुक्त होने के कारण अब यहां कोरोना सेंटरों को मरीज नहीं मिल रहे हैं, जिसके कारण यहां के ३१ कोरोना सेंटरों में ताला लग गया है। फिलहाल, यहां मात्र दो कोरोना केंद्र अभी चालू रखे गए हैं।
मालूम हो कि कोरोना काल के दौरान भिवंडी के शहरी व ग्रामीण इलाके में कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए मनपा के पांच कोविड सेंटर कम पड़ने लगे थे, जिसके मद्देनजर मनपा आयुक्त डॉ. पंकज आशिया ने शहरी और ग्रामीण क्षेत्र के २८ निजी अस्पतालों में कोविड रोगियों के उपचार के लिए इसकी अनुमति दी थी। हालांकि, सितंबर में रोगियों की संख्या में तेजी से गिरावट आई थी। जिसके कारण उक्त कोविड अस्पतालों को मरीज नहीं मिल रहे थे। इस वजह से २८ निजी अस्पतालों सहित कुल ३३ कोविड सेंटरों में से ३१ कोविड सेंटर बंद कर दिए गए हैं। फिलहाल, मात्र इंदिरा गांधी मेमोरियल उपजिला अस्पताल खुदाबख्स हॉल सहित दो अस्पतालों में कोरोना का इलाज चालू है। ऐसी जानकारी मनपा आयुक्त डॉ. पंकज आशिया ने दी है।