" /> बेरोजगारों की बल्ले-बल्ले!, १७ हजार ७१५ को मिला काम

बेरोजगारों की बल्ले-बल्ले!, १७ हजार ७१५ को मिला काम

१ लाख ७२ हजार को रोजगार की दरकार
कोरोना काल में बेकारों को मिली दिलासा

कोरोना संकट से लगे लॉकडाउन से बड़ी संख्या में कल-कारखाने बंद हो गए। सरकारी, गैर सरकारी कार्यालयों में काम करनेवाले कर्मचारियों के अलावा स्वयं रोजगार में लगे मजदूर भी घरों में बैठने को मजबूर हो गए। अर्थात कोरोना ने बेरोजगारी की समस्या को गंभीर बना दिया है लेकिन इसी बीच राहत की खबर यह है कि पिछले ३ महीनों में कौशल विकास विभाग ने जिलों-जिलों में ऑनलाइन नौकरी मेलों का आयोजन किया है और महा स्वयं वेब पोर्टल के माध्यम से १७ हजार, ७१५ बेरोजगारों को रोजगार भी दिया है।
बता दें कि पिछले ३ महीनों में १ लाख, ७२ हजार १६५ बेरोजगारों ने कौशल विकास विभाग के विभिन्न प्लेटफार्मों पर रोजगार के लिए पंजीकरण किया हैं और विभाग इन सभी उम्मीदवारों को रोजगार प्रदान करने का प्रयास कर रहा है। यह जानकारी राज्य के कौशल विकास मंत्री नवाब मलिक ने दी। मलिक ने कहा कि कौशल विकास, रोजगार और उद्यमिता विभाग ने बेरोजगार उम्मीदवारों और उद्यमियों को जोड़ने के लिए एक वेब पोर्टल https://rojgar.mahaswayam.gov.in शुरू किया है। बेरोजगार उम्मीदवार इस वेब पोर्टल पर अपनी शिक्षा, कौशल, अनुभव आदि की जानकारी के साथ पंजीकरण करते हैं। इसके अलावा, कंपनियां, उद्यमी, कॉरपोरेट जो कुशल उम्मीदवारों की तलाश कर रहे हैं, वे भी इस वेब पोर्टल पर पंजीकरण कर सकते हैं और अपने इच्छित उम्मीदवारों को खोज सकते हैं। इस तरह बेरोजगार और उद्यमियों के बीच समन्वय का काम इस वेब पोर्टल के माध्यम से किया जा रहा है। पिछले तीन महीने अप्रैल से जून अंत तक इस वेब पोर्टल पर १ लाख, ७२ हजार, १६५ नौकरी के इच्छुक उम्मीदवारों ने पंजीकरण कराए है। इसमें मुंबई विभाग में २४ हजार, ५२०, नासिक विभाग में ३० हजार, १४५, पुणे विभाग में ३७ हजार, ५६२, संभाजीनगर विभाग में ३५ हजार, २४३, अमरावती विभाग में १४ हजार, २६० व नागपुर विभाग में ३० हजार, ४३५ नौकरी के इच्छुक उम्मीदवारों ने पंजीकरण कराए है, जिसमें से १७ हजार, १३३ उम्मीदवारों को नौकरी पाने में सफलता मिली है। इनमें से मुंबई विभाग में ३ हजार, ७२०, नासिक विभाग में ४८२, पुणे विभाग में १० हजार, ३१७, संभाजीनगर विभाग में १ हजार, ५६९, अमरावती विभाग में १ हजार, ०२२ और नागपुर विभाग में २३ उम्मीदवारों का समावेश है। इसके अलावा महाराष्ट्र राज्य कौशल्य विकास सोसायटी ने अपने उपक्रम के माध्यम से ५८२ उम्मीदवारों को रोजगार उपलब्ध कराया है। ऑनलाइन सम्मेलन में ४० हजार नौकरी के इच्छुक लोगों ने भाग लिया। पिछले तीन महीने में २४ ऑनलाइन रोजगार सम्मेलन संपन्न हुए। इस सम्मेलन में १६७ उद्योगपति शामिल हुए।