" /> दशहरा से शुरू होंगे जिम व फिटनेस सेंटर!… मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का आदेश

दशहरा से शुरू होंगे जिम व फिटनेस सेंटर!… मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का आदेश

लॉकडाउन में शिथिलता के बाद महाराष्ट्र में जिम व फिटनेस सेंटर कब शुरू होंगे, यह जानने के लिए नागरिक काफी उत्सुक थे। अब मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने लॉकडाउन को धीरे-धीरे शिथिल करते हुए दशहरा से जिम, व्यायामशाला व फिटनेस सेंटर शुरू करने की अनुमति दे दी है। वहीं स्टीम बाथ, सौना, शॉवर और जुम्बा व योगा ऐसे सामूहिक व्यायाम अभी बंद ही रहेंगे। जिम व व्यायामशाला में कोरोना वायरस का संक्रमण ना हो इस पर ध्यान देने के साथ ही नियमावली के उचित पालन का आदेश भी मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने दिया है।
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कल जिम, फिटनेस सेंटर व व्यायामशालाओं के प्रतिनिधियों से दूरदृश्य प्रणाली के माध्यम से संवाद साधा। इस दौरान नागरिकों के स्वास्थ को ध्यान में रखकर मुख्यमंत्री ने व्यायामशाला, जिम व फिटनेस सेंटर को शुरू करने की अनुमति दी। इस दौरान कोरोना रोकथाम के लिए बनी नियमावली का उचित पालन करने का भरोसा भी प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री को दिलाया। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि जिम, व्यायामशाला स्वास्थ के लिए ही है, लेकिन इस वजह से स्वास्थ को लेकर खतरा ना हो, इसका ध्यान देना बेहद जरूरी है। बड़े शहरों की तरह ही छोटे शहरों और ग्रामीण भागों में जिम, व्यायामशालाओं की संख्या बेहद अधिक है, इसलिए एसओपी का नियमित पालन करना बेहद जरूरी है।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री के प्रधान सलाहकार अजोय मेहता, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त मुख्य सचिव आशिष कुमार सिंह, मुंबई मनपा के अतिरिक्त आयुक्त अश्विनि भिड़े, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव विकास खारगे, आरोग्य विभाग के प्रधान सचिव प्रदीप व्यास, डॉ.शशांक जोशी, महाराष्ट्र जिम ओनर्स एसोशिएशन के निखिल राजपुरिया, वरिष्ठ पत्रकार संदीप आचार्य, करण तलरेजा, अभिमन्यु साबले, महेश गायकवाड, हेमंत दुधवडकर, साईनाथ दुर्गे, राजेश देसाई, योगिना पाटिल आदि उपस्थित थे।

लापरवाही होने पर कठोर कार्रवाई
यह व्यवसाय है, लेकिन नागरिकों के लिए जरूरी भी है इसलिए ध्यान देना जरूरी है। वर्तमान में कोरोना मरीजों की संख्या कम हो रही है लेकिन यूरोप खंड के उदाहरणों को ध्यान में रखकर सावधानी बरतनी जरूरी है। लॉकडाउन शिथिल करते हुए लापरवाही ना बरतें, इसलिए सभी का प्रयास जरूरी है। कोरोना को रोकने के लिए बनाए गए नियमों का उचित पालन होना ही चाहिए। यदि कोई भी व्यक्ति या संस्था लापरवाही बरतते पायी जाती है तो उसे कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा। इन शब्दों में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने प्रतिनिधियों को चेताया।