" /> कभी देखा है नक्षत्रों वाला उद्यान… भक्ति पार्क से ले लो राशि का ज्ञान!

कभी देखा है नक्षत्रों वाला उद्यान… भक्ति पार्क से ले लो राशि का ज्ञान!

♦ भक्ति पार्क पर्यटन के लिए तैयार
♦ मियावाकी ५७ हजार पेड़ वाला एकमात्र विशाल बगीचा
♦ राशियों-नक्षत्रों के वैज्ञानिक महत्व को समझाने वाले नक्षत्र उद्यान शामिल हैं
♦ तितलियों, पक्षियों, जीव-जंतुओं की विभिन्न प्रजातियों का प्राकृतिक आवास

देश में वन और उद्यान बहुत हैं लेकिन नक्षत्रों और राशिवाले वृक्षों से बनाया गया उद्यान कहीं नहीं है। मुंबई के भक्ति पार्क में मनपा ने यह दुर्लभ काम कर दिखाया है। मनपा ने यहां राशि व नक्षत्रोंवाले वृक्ष को एक स्थान पर लगाया है। जहां लोगों की राशि और नक्षत्रों के अनुसार वृक्ष लगाए गए हैं। पूर्वी उपनगर में सबसे बड़े पार्क के रूप में माने जानेवाले इस पार्क में १२ राशियों और २७ नक्षत्रों वाला अलग से एक पार्क बना है, जो नक्षत्रों और राशि का पूरा ज्ञान देता है। इन वृक्षों को देखने एवं अपने राशि-नक्षत्र से संबंधित ज्ञान पाने के लिए यहां बड़ी संख्या में लोग आकर्षित हो रहे हैं।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे की पहल
राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने वडाला (पूर्व) स्थित भक्ति पार्क में वन बनाने की योजना पर जोर दिया था। परिणाम यह हुआ कि भक्ति पार्क में में लगाए गए ५७,००० पेड़ अब बड़े हो गए और तेजी से फल-फूल रहे हैं।
डेढ़ वर्ष पहले शुरू हुआ सिलसिला
लगभग डेढ़ वर्ष पहले से मनपा मुंबई में पर्यावरण को समृद्ध करने के लिए कम जगह पर अधिक से अधिक पेड़ लगाने की जापानी तकनीकी पर काम कर रही है। इसी के आधार पर ‘मियावाकी’ वन विकसित किया जा रहा है, जो एक अभिनव परियोजना साबित हुई है। इस मियावाकी वन प्रणाली की शुरुआत २६ जनवरी २०२० को भक्ति पार्क से ही की गई थी।

९८ हजार वर्ग मीटर में फैला है
पार्क का कुल क्षेत्रफल ९८ हजार ३६९ वर्ग मीटर है। यह भूखंड दो भागों में बंटा है, जहां ५८ हजार वर्ग मीटर के क्षेत्र में पार्क बनाया गया है तो बाकी ४० हजार वर्ग मीटर क्षेत्र में खेल का मैदान है। इसमें ३ किमी से अधिक लंबा जॉगिंग ट्रैक, लॉन, रंग-बिरंगे फूल और अप-टू-डेट सुविधाएं शामिल हैं।
लोगों में जागरूकता पैदा होगी
नक्षत्र और राशिवाला उद्यान का यह कंसेप्ट पहली बार देखने को मिला है। अध्यात्म और आयुर्वेद की दृष्टि से यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण कदम है। इससे एक तरफ जहां लोगों को ज्ञान और समझ भी होगी, वहीं लोगों में राशि और नक्षत्र के ज्ञान के प्रति रुचि बढ़ेगी, साथ ही इसके प्रति जागरूकता होगी।
– एम. एस. कावसे, स्थानीय नागरिक

मनपा का कदम सराहनीय
मियावाकी वन से यहां का वातावरण पूरी तरह से हरा-भरा हो गया है। मुंबई के बीचों-बीच इस प्रकार की ग्रीनरी उपलब्ध हो रही है। इससे पर्यावरण में ऑक्सीजन लेवल जहां बढ़ रहा है, वहीं हरियाली लोगों के लिए आनंददाई साबित हो रही है। इस तरह की हरियाली मुंबई में अन्य जगह भी लगाई जाए। मनपा का यह कदम सराहनीय है।
-दक्षा दिलीप कनवीय, स्थानीय नागरिक

गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं
इस उद्यान को नक्षत्र और राशि के वृक्षों से बनाने की जो संकल्पना है, वह मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे के विचारों से प्रेरित होकर बनाई गई है। एक अनोखे वन में नक्षत्रों एवं राशि वाले वृक्ष लगाकर हम खुद भी गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। इस प्रकार के वन अध्यात्म और आयुर्वेद के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण माने जाते हैं। यहां की यही विशेषता है, जो लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। मियावाकी स्टाइल के वन लोगों को बहुत भा रहे हैं।
-जितेंद्र परदेसी (अधीक्षक-मनपा उद्यान विभाग)