" /> श्रीवास्तव उ-वाच… यहां मनाया हनीमून तो होगा तलाक

श्रीवास्तव उ-वाच… यहां मनाया हनीमून तो होगा तलाक

ये अपने आप में रोचक भी है और शादी के नए-नए जोड़ों के लिए सलाह भी कि हनीमून मनाओ जरूर मगर यहां नहीं। जी हां, मालदीव हनीमून मनानेवालों के लिए तलाक का कारण बनता जा रहा है। दरअसल, `कंपेयर बेट’ द्वारा की गई एक स्टडी में यह बात सामने आई है कि मालदीव में हनीमून मनाने वाले जोड़ों के बीच तलाक के ज्यादा मामले सामने आए हैं। यह स्टडी उन ३,१०० लोगों पर की गई है जो हनीमून के बाद जीवनसाथी से अलग रहे हैं और जिन्होंने तलाक ले लिया है। सन यूके के छपी स्टडी के मुताबिक थाईलैंड, कैनकम और बैंककॉक को सुरक्षित हनीमून डेस्टिनेशन बताया गया है। बता दें कि इन ३,१०० लोगों में से ६२० यानी २० फीसदी वो तलाकशुदा लोग हैं, जिन्होंने मालदीव में अपना हनीमून इन्जॉय किया था। आंकड़ों के मुताबिक मालदीव उन देशों की लिस्ट में टॉप पर हैं, जिसमें शादीशुदा जोड़ों के हनीमून मनाने के बाद जल्द ही तलाक की नौबत आई है। वहीं, मालदीव के बाद मोरक्को का माराकेस दूसरा ऐसा शहर है जहां हनीमून मनाने के बाद ५२७ (१७ फीसदी) लोगों ने तलाक ले लिया है। वहीं तीसरे नंबर पर बोरा-बोरा हनीमून डेस्टिनेशन है, जहां तलाक आंकड़ा १३ फीसदी का है।
घाटे का तापमान
क्या आप जानते हैं कि घाटे का भी अपना एक तापमान होता है? जी हां, ये ऐसा तापमान है जो बढ़ता है तो पैसा घटता है। जी हां, दरअसल, प्रकृति को लेकर हम उदासीन बने हुए हैं क्योंकि धरती का तापमान बढ़ रहा है। जो घाटे का तापमान है। जी-२० के रिपोर्ट कार्ड में इसके बेहद चौकानेवाले तथ्‍य सामने आए हैं। इसके मुताबिक बढ़ते तापमान की वजह से वर्ष १९९९-२०१८ के बीच हिंदुस्थान को १० लाख करोड़ रुपए (१४,००९ करोड़ डॉलर यानी १०,४०,३०८ करोड़ रुपए) से अधिक का नुकसान उठाना पड़ा है। देश की जीडीपी पर यदि इसको आंका जाए तो ये करीब .२६ फीसद होता है। ये नुकसान देश के लगभग सभी राज्‍यों के सालाना बजट से भी अधिक है। जी-२० के इस रिपोर्ट कार्ड में हिंदुस्थान अमेरिका के बाद तीसरे नंबर पर है। इसके बाद चीन को होने वाला नुकसान २६ लाख करोड़ से अधिक है। वहीं चौथे नंबर पर मौजूद ऑस्‍ट्रेलिया को १८ लाख करोड़ से अधिक, मैक्सिको को २२ लाख करोड़ से अधिक का नुकसान बताया गया है।
यात्रा हो तो ऐसी
यात्रा हो तो ऐसी हो वर्ना न हो। जी हां, ये यात्रा रिकॉर्डधारी यात्रा है। अजब-गजब। क्या कोई विश्वास कर सकता है कि सिर्फ ३ दिन में ७ महाद्वीप की यात्रा हो जाए? यूएई की डॉ. खावला अल रोमाथी ने ३ दिन में सात महाद्वीपों में यात्रा करने का रिकॉर्ड बनाया है। अल रोमाथी ने विश्व रिकॉर्ड खिताब हासिल करने के लिए २०८ देशों की अपनी यात्रा पूरी की है। रोमाथी ने ३ दिन में सात महाद्वीपों में यात्रा करने के रिकॉर्ड बनाया है। अल रोमाथी ने केवल ३ दिन १४ घंटे ४६ मिनट में यह उपलब्धि हासिल की है। अल रोमाथी ने विश्व रिकॉर्ड खिताब हासिल करने के लिए २०८ देशों की अपनी यात्रा पूरी की। अल रोमाथी ने अपने इंस्टाग्राम प्रोफाइल पर आधिकारिक प्रमाणपत्र के साथ एक पोस्ट भी साझा किया है।
ये चपारे-चपारे क्या है?
ये तय जानिए कि अब दुनिया बिना वायरस अटैक के आजाद नहीं रह सकती। बीमारियां बढ़ती जाएंगी और एक के बाद एक नई-नई बीमारियां पैदा होंगी। इसका अर्थ है कि मानव जाति खुद अपने पैरों पर कुल्हाड़ी चला रही है। प्रकृति ने हमें बहुत सुंदर दुनिया दी थी मगर हमने इसे बिगाड़ दी। बहरहाल, अमेरिका की सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन ने इबोला जैसे ही एक वायरस की खोज की है जो इंसान से इंसान में फैलता है और इसका नाम चपारे है। बोलीविया में इसके पैदा होने की बात कही गई है। कोरोना वायरस जैसी एक महामारी पहले ही चल रही है, ऐसे में चपारे वायरस चिंता का विषय कहा जा सकता है और इसके आउटब्रेक की भी संभावना है। वायरसों के एरेनावायराइड परिवार से ही चपारे वायरस आता है। इससे ही इबोला वायरस आता है। इससे हैमोरहेजीक फीवर होता है, जो प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से संक्रमितों के संपर्क में आने से फैलता है। यह एक दुर्लभ बीमारी है और इससे कुछ लोगों की मृत्यु भी हुई है। शोधकर्ताओं का यह भी मानना है कि यह बोलीविया में पता चलने से पहले काफी समय से होगा। इस बारे में कहना है कि इसका ट्रांसमिशन चूहों से हुआ होगा। संक्रमित इंसान के डायरेक्ट संपर्क में आने के अलावा मल और मूत्र के संपर्क में आने से भी यह फैलता है। अब यह भी पता चला है कि यह संक्रमित के संपर्क में आने से फैलता है। चपारे वायरस संक्रमित में बुखार, सिरदर्द, पेट दर्द, जोड़ों में दर्द, दस्त की समस्या, उल्टी, चकत्ते होना आदि लक्षण हैं।
(लेखक सम सामयिक विषयों के टिप्पणीकर्ता हैं। ३ दशकों से पत्रकारिता में सक्रिय हैं व दूरदर्शन धारावाहिक तथा डाक्यूमेंट्री लेखन के साथ इनकी तमाम ऑडियो बुक्स भी रिलीज हो चुकी हैं।)