" /> मुंबई में कोई भूखा न रह जाए : कॉल के जरिए युवाओं की मदद

मुंबई में कोई भूखा न रह जाए : कॉल के जरिए युवाओं की मदद

मुंबई सहित पूरे देश में कोरोना वायरस की महामारी छाई हुई है। इस महामारी से बचने के लिए पूरे देश मे लॉक डाउन जारी है। इस लॉक डाउन में सबसे बड़ी दिक्कत गरीब व मजदूर तबके के लोगों के खाने- पीने की हो गई है। सरकार अपने स्तर पर इन लोगों की हरसंभव मदद कर रही है। इस मदद की कड़ी में अब मुंबई के युवा भी कूद पड़े है। मुंबई में कोई भूखा न रह जाए इसलिए कुछ युवाओं ने अपने-अपने नंबर जारी किए है, जिसके जरिए वह मुंबई सहित पूरे एमएमआर रीजन में उन सभी लोगों को मदद पहुंचा रहे है, जिन्हें या तो फूड पैकेट चाहिए या फिर खाद्य सामग्री चाहिए।
बता दें कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए पूरे देश में लॉक डाउन किया गया है। इस लॉक डाउन में सबसे ज्यादा परेशानी गरीब व मध्यम वर्ग को राशन को लेकर हो रही है। सरकार ने गरीबों को मुफ्त में राशन उपलब्ध कराया है जबकि जरूरतमंदों को मुंबई मनपा के जरिए पका हुआ खाना मुहैया कराया जा रहा है। झोपड़पट्टियों में कुछ राशन दुकानदार गरीबों के अधिकारों का राशन तक हजम कर जा रहे है। ऐसे में गरीबों को उनका सरकारी राशन मिले इसके लिए होप इंडिया के संस्थापक सदस्य रेहान दोराजी वाला के नेतृत्व में ताजु शरिया राशन इन्फॉर्मेशन सेंटर शुरू किया गया है। इस सेंटर में राशन संबंधित मदद के लिए 9004462437, 9004462795 और 9004469843 नंबर जारी किया है। रेहान दोराजीवाला ने बताया कि सुबह 10 बजे से शाम 8 बजे तक इस नंबर पर कॉल करके जरूरतमंद अपनी समस्या का निवारण कर पाएंगे। इस नंबर के जरिए लोगों को उन्हें सरकारी राशन में मिलनेवाले अनाज की जानकारी दी जा सकती है। इसके साथ ही जिन्हें राशन नहीं मिल पा रहा है, उन्हें घर तक होप इंडिया संस्था के मार्फत सिर्फ एक कॉल पर राशन पहुंचाया जाता है। इसी तरह दक्षिण मुंबई के एक युवक असलम मलकानी ने लोगों की मदद के लिए अपना फोन नंबर 9820629625 जारी किया है। फोन आते ही असलम मलकानी जरूरतमंदों को मदद पहुंचाने के लिए जुट जाते है। पूर्वी उपनगर के गोवंडी इलाके में जे. पॉवर संस्था के अध्यक्ष जमील कुरैशी ने भी अपना फोन नंबर 9664665757 लोगों की मदद के लिए जारी किया है। इस फोन पर कॉल आते ही जमील अपने सहयोगियों की मदद से जरूरतमंदों को घर पर फूड किट पहुंचा रहे है। इसके अलावा क्रिसिल अपने मुंबई स्थित कार्यालय में हाइजेनिक तरीके से खाना तैयार करवा कर लोगों तक मुहैया करवा रहा है। इस योजना के तहत क्रिसिल एक दिन में 10,000 लोगों को फूड किट मुहैया करा रही है। भोजन का वितरण क्रिसिल फाउंडेशन के गैर-सरकारी संगठनों एनजीओ के नेटवर्क के माध्यम से किया जाता है। क्रिसिल फाउंडेशन के अलावा, क्रिसिल कर्मचारियों द्वारा योगदान किए गए फंड के माध्यम से इस पहल का समर्थन किया जाता है।