" /> विदेश से आए हैं तो पेड क्वॉरंटीन में जाइए, स्वास्थ्य मंत्रालय की नई गाइडलाइंस

विदेश से आए हैं तो पेड क्वॉरंटीन में जाइए, स्वास्थ्य मंत्रालय की नई गाइडलाइंस

केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने हिंदुस्थान आनेवाले यात्रियों के लिए नई गाइडलाइंस जारी की हैं। अब विदेश से आनेवाले यात्रियों को ७ दिन के लिए पेड इंस्‍टीट्यूशनल क्‍वॉरंटीन में रहना ही होगा। उसके बाद अगले ७ दिन वे होम आइसोलेशन में रहेंगे। कुछ मामलों में छूट दी जाएगी जैसे- मानव संकट, गर्भवती महिलाओं, परिवार में किसी की मृत्‍यु या १० साल से कम उम्र के बच्‍चों संग माता-पिता के लिए इंस्‍टीट्यूशनल क्‍वॉरंटीन जरूरी नहीं होगा। उन्‍हें खुद को १४ दिनों तक आइसोलेशन में रहने को कहा जाएगा। यह नई गाइडलाइंस ८ अगस्‍त से प्रभावी होंगी।
अनिवार्य क्‍वॉरंटीन से छूट पाने के लिए यात्रियों को ऑनलाइन पोर्टल पर बोर्डिंग से कम से कम ७२ घंटे पहले अप्‍लाई करना होगा। सरकार उस रिक्‍वेस्‍ट पर आखिरी पैâसला करेगी। क्वॉरंटीrन से छूट के लिए अराइवल पर निगेटिव कोरोना टेस्‍ट रिपोर्ट भी दिखाई जा सकती है। मगर यह टेस्‍ट यात्रा से ९६ घंटे की टाइमलाइन के बीच ही हुआ होना चाहिए। हालांकि राज्‍यों को यह छूट दी गई है कि वह क्‍वॉरंटीन और आइसोलेशन पर अपना अलग प्रोटोकॉल बना सकते हैं। भारत के लिए फ्लाइट या जहाज लेनेवालों को थर्मल स्‍क्रीनिंग के बाद एसिम्‍टोमेटिक पाए जाने पर ही बोर्ड करने दिया जाएगा। जमीन से भारत में एंट्री चाहनेवालों को भी इसी प्रोटोकॉल से गुजारा जाएगा। टिकट के साथ क्‍या करें और क्‍या न करें, इसकी एक लिस्‍ट भी पैसेंजर्स को दी जाएगी। भारत में शेड्यूल्‍ड इंटरनेशनल फ्लाइट्स पर ३१ अगस्‍त तक पाबंदी बढ़ा दी गई है।
डायरेक्‍टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन ने बैन आगे इसलिए बढ़ाया क्‍योंकि अधिकारियों को लगता है कि इंटरनेशनल ऑपरेशंस शुरू करने से पहले भारत को तैयार होने में और वक्‍त लगेगा। हालांकि इंटरनेशनल कार्गो ऑपरेशंस पर प्रतिबंध नहीं है। साथ ही वंदे भारत मिशन के तहत उड़ने वाली फ्लाइट्स भी जारी हैं।