टीम इंडिया टेंशन में! -सुरक्षा को लेकर बड़ा खतरा

विश्व कप का कल पहला सेमीफाइनल है और टीम इंडिया टेंशन में है। न न, यह टेंशन न्यूजीलैंड की टीम का नहीं बल्कि स्टेडियम में सुरक्षा का है। असल में गत मैच में खेल के दौरान तीन बार विमान ने स्टेडियम के ऊपर चक्कर काटे। इस पर कश्मीर को लेकर बैनर लगा हुआ था। आखिर जहां टीम इंडिया खेल रही है वहां इस तरह से हवा में उनके ऊपर कोई विमान चक्कर मारे इसमें सुरक्षा का गंभीर खतरा हो सकता है। माना जा रहा है कि यह पाकिस्तानी इशारे पर की गई नापाक हरकत है।
बता दें कि शनिवार को हेडिंग्ले स्टेडियम में टीम इंडिया और श्रीलंका के बीच मैच खेला जा रहा था। इस मैच के दौरान स्टेडियम के ऊपर से एक के बाद एक तीन विमान हिंदुस्थान विरोधी बैनर लहराते हुए गुजरे।
स्टेडियम के आसपास विमान उड़ने पर रोक!
टीम इंडिया पहले स्थान पर रहते हुए कल सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से भिड़ने को तैयार है। लेकिन श्रीलंका के खिलाफ मैच के दौरान कुछ ऐसे दृश्य सामने आए, जिससे खिलाड़ियों की सुरक्षा को लेकर सवाल उठ रहे हैं। इस घटना को देखते हुए बीसीसीआई खफा है। बीसीसीआई ने आईसीसी को एक पत्र लिखा है, जिसमें उसने टीम इंडिया के खिलाड़ियों और पैंâस की सुरक्षा को लेकर आश्वासन की मांग की है। आईसीसी ने वहां की पुलिस को लिखा और अब सेमीफाइनल और फाइनल मैच के दिन स्टेडियम के आसपास ‘नो फ्लाइंग जोन’ घोषित कर दिया गया है।
बता दें कि शनिवार को हेडिंग्ले स्टेडियम में टीम इंडिया और श्रीलंका के बीच मैच खेला जा रहा था। इस मैच के दौरान स्टेडियम के ऊपर से एक के बाद एक तीन विमान हिंदुस्थान विरोधी बैनर लहराते हुए गुजरे।
मैच की शुरुआत के कुछ ही मिनट बाद मैदान के ऊपर एक विमान ‘कश्मीर के लिए न्याय’ संदेश के साथ उड़ा। आधे घंटे बाद इसी तरह का एक विमान फिर स्टेडियम के ऊपर उड़ा जो ‘भारत नरसंहार बंद करो, कश्मीर को आजाद करो’ का बैनर लहरा रहा था। टीम इंडिया जब लक्ष्य का पीछा कर रही थी, उस दौरान तीसरा विमान नजर आया और इस बार ‘भारत में मॉब लिंचिंग बंद की जाए’ का बैनर लहरा रहा था। इस घटना के बाद बीसीसीआई ने आईसीसी के समक्ष लिखित शिकायत दर्ज कराई है। बीसीसीआई ने लीड्स के हेडिंग्ले स्टेडियम के ऊपर विमान से हिंदुस्थान विरोधी बैनर लहराने के मुद्दे को ‘अस्वीकार्य’ बताते हुए आईसीसी के समक्ष अपने खिलाड़ियों की सुरक्षा का मुद्दा उठाया है। बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘यह पूरी तरह से अस्वीकार्य है। हमने आईसीसी को लिखा है, हेडिंग्ले में जो भी हुआ उसे लेकर अपनी चिंता जाहिर की है। अगर सेमीफाइनल में इस तरह की घटना दोहराई गई तो यह बेहद दुर्भाग्यशाली होगा। हमारे खिलाड़ियों की सुरक्षा सर्वोच्च है।’
२९ जून को इसी स्टेडियम में पाकिस्तान और अफगानिस्तान के बीच मैच खेला गया था। इसी मैच में भी स्टेडियम के ऊपर से एक विमान निकला था, जिस पर बलूचिस्तान के लिए न्याय के नारे का बैनर लटका हुआ था। इस मैच के दौरान दोनों देशों के प्रशंसक भी आपस में भिड़ गए थे। स्टेडियम परिसर में झड़प के बाद कुछ प्रशंसकों को बाहर भी कर दिया गया था। आईसीसी की राजनीति और नस्ली संदेशों के खिलाफ शून्य सहिष्णुता की नीति है और १० दिन के भीतर सुरक्षा में एक और चूक पर उसने निराशा जाहिर की है। इस घटना के बाद आईसीसी ने मैनचेस्टर तथा बर्मिघम की पुलिस से बात की। पुलिस ने आईसीसी को भारोसा दिलाया है कि वह इन दो शहरों के स्टेडियम के आस-पास के इलाके को नो फ्लाइंग जोन घोषित करेगी। बता दें कि मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड और बर्मिंघम के एजबेस्टन में क्रमश: ९ और ११ जुलाई को मौजूदा वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल होने वाले हैं।