" /> युवासेना ने पीएम मोदी से पूछे सवाल… क्या यही हैं अच्छे दिन!… ९७ रुपए पहुंचा पेट्रोल

युवासेना ने पीएम मोदी से पूछे सवाल… क्या यही हैं अच्छे दिन!… ९७ रुपए पहुंचा पेट्रोल

पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर देशभर में विपक्षी दल जगह-जगह विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। अब शिवसेना की युवासेना ने भी केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ पोस्टर लगाकर विरोध शुरू कर दिया है। मुंबई में कई ठिकानों पर युवासेना ने पोस्टर लगाकर पीएम मोदी से सवाल किया है कि क्या यही अच्छे दिन हैं? जिसका हमें आप सपना दिखा रहे थे। बांद्रा, सांताक्रुज जैसे कई स्थानों पर पेट्रोल पंप के बाहर और आस-पास के लाइट पोल पर ऐसे सैकड़ों पोस्टर लगाए गए हैं। इन पोस्टरों में वर्ष २०१५ और वर्ष २०२१ के गैस, पेट्रोल-डीजल के दामों को अंकित किया गया है और सवाल उपस्थित किया है, क्या यही अच्छे दिन हैं।

युवासेना कोर कमेटी के सदस्य तथा मनपा में शिक्षा समिति के सदस्य राहुल कनाल ने कहा कि मुंबई में कई पेट्रोल पंपों पर और सैकड़ों लाइट पोल पर उक्त पोस्टर्स लगाकर २०१५ और २०२१ के पेट्रोल-डीजल के दाम की तुलना दर्शाई गई है। कनाल ने कहा कि केंद्र सरकार के कृत्य को जानने और समझने का अधिकार जनता को है। हमने भी जनता को मोदी सरकार की करनी और कथनी में फर्क बताने का प्रयास किया है। हिंदूहृदयसम्राट शिवसेनाप्रमुख बालासाहेब ठाकरे ने कहा था कि शिवसेना ८० प्रतिशत सामाजिक काम करेगी और २० प्रतिशत राजनीति। उसी के तहत युवासेना प्रमुख व राज्य के पर्यावरण एवं पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे के नेतृत्व में हमने मोदी सरकार को आईना दिखाने का प्रयास किया है।

इस पोस्टर में युवासेना ने केंद्र सरकार से पूछा कि वर्ष २०१५ में पेट्रोल के दाम ६४.६० रुपए थे, जबकि २०२१ में यह ९६.६२ रुपए प्रति लीटर हो गए, गैस के दाम ५७२ रुपए थे जबकि अब ७१९ रुपए हैं, वहीं तब डीजल के दाम ५२ रुपए थे, जबकि अब ८८ रुपए पार कर गए हैं। पोस्टर में सबसे ऊपर लिखा गया है ‘क्या यही हैं अच्छे दिन? मुंबई में आज पेट्रोल ९७ रुपए में बिक रहा है।