बिल्कुल परहेज करूंगी- ईशा कोप्पिकर

खल्लास गर्ल के नाम से मशहूर कई भाषाओं के सिनेमा में अभिनय कर चुकीं ईशा कोप्पिकर एक लंबे अंतराल के बाद अल्ट बालाजी की वेब सीरीज ‘फिक्सर’ में एक सशक्त महिला पुलिस इंसपेक्टर के किरदार में दर्शकों से रूबरू होने जा रही हैं। प्रस्तुत है ईशा कोप्पिकर से सोमप्रकाश ‘शिवम’ की बातचीत के प्रमुख अंश-

 वेब सीरीज ‘फिक्सर’ में निभाए अपने किरदार के बारे में प्रकाश डालें?
‘फिक्सर’ में मेरा किरदार जयंती जावड़ेकर नामक महिला पुलिस इंसपेक्टर का है जो लोगों में विवाद की स्थिति में सेटलमेंट कराती है। वह कभी भी गरीब का पैसा नहीं खाती जबकि मेरे विरोधी जयेश मानते हैं कि मैं हराम का खाती हूं। कुछ इसी तरह का रहस्य दिखनेवाला है।
 फिल्म मेकरों द्वारा वर्तमान सिनेमा में परोसी जा रही अश्लीलता क्या सही मायने में अभिव्यक्ति की आजादी कही जा सकती है?
मैं इसे अभिव्यक्ति की आजादी कत्तई नहीं मानती लेकिन बनानेवालों के साथ-साथ देखनेवालों पर भी निर्भर करता है कि वह क्या देखना पसंद करते हैं? मेरे ख्याल से हमारे दर्शक ही कुछ ऐसा-वैसा देखने को ज्यादा लालायित रहते हैं जिसके चलते हमारे फिल्म मेकर मर्यादाओं को ताक पर रख देते हैं।
 क्या आपको लगता है कि वर्तमान सिनेमा में बढ़ रही फूहड़ता हमारे समाज के बच्चों पर कुप्रभाव डालने में सफल रही है?
बिल्कुल मेरे ख्याल से वेब सीरीज में फूहड़ता की बहुतायत तेजी से बढ़ रही है। जिस पर अंकुश लगाने के लिए सेंसर की जरूरत है। साथ ही गार्जियंस को भी अपने बच्चों पर निगरानी रखनी होगी। मैं भी एक मां हूं तो मैं बिल्कुल भी पसंद नहीं करूंगी कि मेरा बच्चा कुछ ऊटपटांग देखे। हां, अगर वह बालिग है तो उसकी मर्जी।
 अगर आप फिल्म निर्देशिका बनें तो किस तरह फिल्म पसंद करेंगी?
अगर मैं फिल्मकार बनी तो सार्थक और सकारात्मक परिणाम देनेवाले सिनेमा का चयन करूंगी। जिसमें बच्चों और समाज को प्रोग्रेसिव करनेवाला महत्वपूर्ण संदेश हो, ताकि लोगों में मनोरंजन के साथ-साथ उचित और सटीक जानकारियां भी उपलब्ध हो सकें।
जन्मदिन: १९ सितंबर
जन्मस्थान: मुंबई
कद: ५ फुट ७ इंच
वजन: ६० कि. ग्रा.
शिक्षा: स्नातक
मनपसंद कलाकार:
अमिताभ बच्चन,
माधुरी दीक्षित।