" /> खडसे, तावड़े, मुंडे, मेहता आउट

खडसे, तावड़े, मुंडे, मेहता आउट

-फडणवीस विरोधियों को राज्य कार्यकारिणी में नहीं मिली जगह

भाजपा राज्य कार्यकारिणी की घोषणा कल प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटील ने की। इस नई कार्यकारिणी की खास बात यह रही कि नेता विपक्ष देवेंद्र फडणवीस इससे अपने विरोधी नेताओं को आउट रखने में सफल रहे। जो वरिष्ठ नेता राज्य कार्यकारिणी में शामिल नहीं हुए उनमें एकनाथ खडसे, विनोद तावड़े, प्रकाश मेहता व पंकजा मुंडे का समावेश है। ये सभी नेता पिछली सरकार में मंत्री रह चुके हैं।
एकनाथ खडसे और पूर्व मंत्री विनोद तावडे को इस कार्यकारिणी में मात्र विशेष आमंत्रित सदस्य के रूप में स्थान दिया गया है। भाजपा से नाराज चल रही पूर्व मंत्री पंकजा मुंडे को राज्य कार्यकारिणी में स्थान नहीं दिया गया है। पार्टी की ओर से पंकजा मुंडे को केंद्र में बड़ी जिम्मेदारी दी जाएगी, ऐसा लॉलीपॉप प्रदेशाध्यक्ष पाटील ने दिया है। इसी प्रकार पूर्व मंत्री प्रकाश मेहता को भी दरकिनार कर दिया गया है। प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि नई नियुक्तियों की घोषणा की गई है क्योंकि स्थानीय व राष्ट्रीय स्तर पर तीन साल में संगठनात्मक बदलाव होते हैं। बता दें कि विधानसभा चुनाव के बाद कई भाजपा नेता नाराज थे। इसलिए हर किसी में उत्सुकता थी कि नई कार्यकारिणी कैसी होगी? सभी की निगाहें वरिष्ठ नेता एकनाथ खडसे पर थीं, जिन्हें विधानसभा चुनावों में टिकट नहीं दिया गया था। साथ ही मंत्री विनोद तावड़े और चंद्रशेखर बावनकुले, प्रकाश मेहता को भी उम्मीदवारी नहीं मिली थी। पूर्व मंत्री पंकजा मुंडे विधानसभा चुनाव हार गई थी। ये सभी नाराज और असंतुष्ट थे। इन सभी को कौन सी जिम्मेदारी दी जाएगी, इसपर सबका ध्यान लगा हुआ था। इनमें से पूर्व मंत्री चंद्रशेखर बावनकुले को महामंत्री के पद की जिम्मेदारी दी गई है। प्रदेश अध्यक्ष पाटिल ने स्पष्ट किया कि पंकजा मुंडे को केंद्र में एक बड़ी जिम्मेदारी दी जाएगी। इसी प्रकार 12 उपाध्यक्ष, 6 महामंत्री औऱ 12 सचिव के नामों की घोषणा के साथ-साथ अन्य पदाधिकारियो के नामों की घोषणा प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने की।