" /> कातिल हसीना!

कातिल हसीना!

अब महिलाओं में भी पैâला आइसिस का जाल
एनआईए ने पुणे से सादिया शेख को धरा

दुनिया के सबसे खूंखार आतंकी संगठन आइसिस में सिर्फ क्रूर पुरुषों की ही भरमार है, अगर आप ऐसा सोचते हैं तो गलत हैं। वहां कातिल हसीनाएं भी हैं। यहां तस्वीर में सादिया और हिना नाम की महिलाएं नजर आ रही हैं। ये आइसिस से जुड़ी हैं। इसका खुलासा एनआईए ने किया है। एनआईए के अनुसार भारत में आतंकी संगठन आइसिस की कमान मेट्रो सिटी में रहनेवाली महिलाएं संभाल रही हैं। ये महिलाएं सोशल मीडिया के जरिए इस्लामिक स्टेट की विचारधारा का प्रचार-प्रसार कर रही हैं। इतना ही नहीं हमले के लिए विस्फोटक जुटाने का भी काम कर रही हैं।
एनआईए को इस मामले में एक और बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। एजेंसी ने पुणे से सादिया अनवर शेख नाम की एक युवती को गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि सादिया काफी कट्टरपंथी विचारधारा की है। जानकारी के मुताबिक ये वही सादिया है जो आतंकी जाकिर मूसा से शादी करने जम्मू-कश्मीर पहुंच गई थी। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने साल २०१८ में उसे पकड़ लिया था। हालांकि बाद में उसे डी-रेडिकलाइज करके छोड़ दिया गया था। वहीं जब आतंकी जाकिर मूसा ने सादिया से शादी करने से इनकार कर दिया तो उसने जम्मू-कश्मीर आइसिस कमांडर वकार के सामने शादी का प्रस्ताव रखा था। फिर सादिया ने आइसिस का खुरासान मॉड्यूल ज्वॉइन कर लिया। सादिया टेलीग्राम ऐप के जरिए दूसरे आतंकियों से आईडी (विस्फोटक) मांग रही थी। लेकिन जांच एजेंसी ने उसकी चैट पकड़ ली। स्पेशल सेल के हाथों गिरफ्तार खुरासान मॉड्यूल की आतंकी हिना बशीर और जहानजेब सामी की इंट्रोगेशन रिपोर्ट में सादिया को लेकर कई खुलासे हुए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक सादिया शेख टेलीग्राम ऐप पर अहल-ए-वफा नाम की आईडी से गिरफ्तार हिना बेग और जहानजेब के अलावा दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद आतंकी अब्दुल्ला बाशित से लगातार संपर्क में थी। बाशित तिहाड़ जेल से ही ‘वॉइस ऑफ इंडिया’ नाम की एक पत्रिका निकाल रहा था। हिना, सादिया और जहानजेब पत्रिका निकालने में बाशित की मदद कर रहे थे. इस पत्रिका में सीएए विरोध के नाम पर दिल्ली दंगों के पोस्टर छापे गए थे और भड़काने वाले कंटेंट डाले गए थे। बताया जा रहा है कि दिल्ली और जम्मू-कश्मीर में बड़े आतंकी हमले की साजिश रची जा रही थी। दिल्ली में लोन वुल्फ अटैक की प्लानिंग चल रही थी।