" /> कोरोनावाली दुल्हन! बंगलुरु टू आगरा वाया दिल्ली

कोरोनावाली दुल्हन! बंगलुरु टू आगरा वाया दिल्ली

-न जाने कितनों में फैलाया इन्फेक्शन
-इटली से हनीमून मनाकर लौटा था दंपति
-पति को हुआ कोरोना का इन्फेक्शन
-पता चलते ही अस्पताल से भागी दुल्हन
-पुलिस ने पकड़ डाला आइसोलेशन वॉर्ड में

एक कोरोनावाली दुल्हन ने बंगलुरु से लेकर दिल्ली और आगरा तक हड़कंप मचा दिया। हाल ही में यह दंपति इटली से हनीमून मनाकर लौटा और बंगलुरु में जब पति की जांच हुई तो वह कोरोना पॉजीटिव मिला। इसके बाद पति और पत्नी को भी अलग-थलग वॉर्ड में शिफ्ट कर दिया गया। दोनों साथ में थे और कोरोना के लक्षण १४ दिन बाद भी दिखते हैं इसलिए पत्नी को भी अलग वॉर्ड में रखा गया पर वह अस्पताल कर्मचारियों को चकमा देकर भाग निकली।
कोरोनावाली यह खतरनाक दुल्हन बंगलुरु से दिल्ली आई और फिर वहां से अपने मायके आगरा पहुंची। जब इस मामले का खुलासा हुआ तो स्वास्थ्य विभाग के होश उड़ गए। एक ओर जहां कोरोना वायरस को लेकर लोग अतिरिक्त सतर्कता बरत रहे हैं, वहीं आगरा के इस केस ने सबके होश उड़ा दिए हैं। रिपोर्ट के अनुसार जब पति कोरोना वायरस के लिए पॉजिटिव पाया गया तो महिला को भी आइसोलेट किया गया, लेकिन अपनी और हजारों लोगों की सुरक्षा को खतरे में डालते हुए न सिर्फ वह आइसोलेशन से बाहर निकली बल्कि पहले फ्लाइट से दिल्ली और फिर ट्रेन से आगरा अपने मायके जा पहुंची। अब इस महिला के ट्रैवल रूट को ट्रेस किया जा रहा है। वैसे इस महिला को भी कोरोना वायरस की पुष्टि ८ तारीख को ही जांच में हो चुकी है।
मिली जानकारी के अनुसार जब स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी आगरा स्थित उसके घर पहुंचे तो पाया कि वह ८ सदस्यों के साथ रह रही है। इन सभी को आइसोलेट करने की बात की गई तो उन्होंने मना कर दिया। इसके बाद जिला मैजिस्ट्रेट और पुलिस बुलानी पड़ी, तब जाकर यह परिवार क्वॉरंटाइन (अलग-थलग) किया जा सका।

न जाने कितनों को वायरस दे गई दुल्हन! अब पड़ी है ताजनगरी के आइसोलेशन वॉर्ड में
यूरोप से हनीमून मनाकर लौटी एक दुल्हन ने मुंबई, बंगलुरु, दिल्ली और आगरा में न जाने कितने लोगों को कोरोना वायरस फैला दिया है। इसके बाद वह मजे से आगरा में अपने मायके के घर में रह रही थी। अब पुलिस ने उसे पकड़कर अस्पताल के आइसोलेशन वॉर्ड में डाल दिया है।
आगरा के सीएमओ मुकेश कुमार वत्स ने बताया कि मेडिकल टीम जब महिला के घर पहुंची तो उसके पिता ने साफ झूठ बोल दिया कि महिला बंगलुरु जा चुकी है। उन्होंने बताया कि मैजिस्ट्रेट के दखल के बाद महिला के घर जाया गया और सभी परिजनों को अस्पताल स्क्रीनिंग के लिए ले जाया गया। महिला को अब एसएन मेडिकल कॉलेज के आइसोलेशन वॉर्ड में रखा गया है। अस्पताल के एक अधिकारी ने बताया कि फरवरी में महिला की शादी हुई थी। वे इटली में हनीमून के लिए गए और वहां से ग्रीस और प्रâांस गए। २७ फरवरी को वे मुंबई आए और वहां से बंगलुरु। ७ मार्च को उसके पति का कोरोना वायरस का टेस्ट पॉजिटिव निकला, जिसके बाद दोनों को आइसोलेट कर दिया गया। महिला ने यह बात अपने घरवालों को बताई तो उसके पिता ने उसे आगरा बुला लिया।
प्राप्त जानकारी के अनुसार, महिला ८ मार्च को बंगलुरु से नई दिल्ली फ्लाइट से और फिर दिल्ली से आगरा ट्रेन से पहुंची। अब उसके ट्रैवल डीटेल्स खंगाले जा रहे हैं। शक है कि उससे रास्ते में मिले यात्रियों को भी इन्फेक्शन हुआ होगा। अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज ने महिला को वायरस की संदिग्ध मरीज बताया था, जिसके बाद स्वास्थ्य अधिकारी हरकत में आए।
आगरा के इन मामलों से भारत के उन शहरों को विशेष सावधान रहने की जरूरत है जो अब तक विशेष रूप से पर्यटन का केंद्र रहे हैं, क्योंकि सबसे ज्यादा मरीज इन्हीं पर्यटन केंद्र जैसे आगरा, दिल्ली और केरल आदि से आ रहे हैं। जयपुर में भी पर्यटक खूब आते हैं इसलिए जयपुर को भी इससे सबक लेने की जरूरत है।

डॉक्टर तो क्या भगवान भी नहीं बचा सकते!
दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने ट्वीट किया है। कोरोना से ग्रसित महिला स्वास्थ्य कर्मियों के सुरक्षा घेरे से भागकर बंगलुरु से दिल्ली आई, फिर ट्रेन से आगरा गई। इस दौरान कितने लोगों को इन्फेक्शन दे दिया होगा। अगर ऐसे लोगों का ये रवैया होगा तो फिर डॉक्टर तो क्या भगवान भी नहीं बचा सकता। बता दें कि इससे पहले आगरा से कोरोना के ७ संक्रमित मामले सामने आ चुके हैं। फिलहाल सभी का इलाज दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में चल रहा है। ताजनगरी में कोरोना वायरस की पहली दस्तक चार फरवरी को हुई। जब चीन से लौटे आगरा के शिक्षक दंपति जांच कराने जिला अस्पताल पहुंचे। इनकी जांच करके आइसोलेशन विभाग में भर्ती किया गया। नाटकीय घटनाक्रम के तहत दंपति रात में ही अस्पताल छोड़कर दिल्ली चले गए। हालांकि बाद में उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आई। पांच फरवरी को स्वास्थ्य मंत्रालय और शासन की निर्देशों पर ४२ लोगों की स्क्रीनिंग कराई गई। सभी चीन से भारत लौटे थे। इनमें ताजमहल घूमने आए चीन के बुजुर्ग दंपति भी शामिल थे।